एशियाड खेलों में गोल्ड मेडलिस्ट हैं ‘महाभारत’ के ‘भीम’, जानिए कहानी

0
10

हेल्लो दोस्तों देशभर में लॉकडाउन 17 मई तक लाॅकडाउन बढ़ाया गया है। इसी बीच दूरदर्शन पर बीआर चोपड़ा की ‘महाभारत’ का रीटेलीकास्ट किया जा रहा है. जिसके चलते ‘महाभारत’ से जुड़े कलाकार एक बार फिर चर्चा में हैं. महाभारत में भीम का रोल बेहद पसंद किया गया। लेकिन आप यह जानकर खुश होंगे कि भीम का किरदार निभाने वाला शख्स खेल में भी अपनी धाक जमा चुका है। वह एशियाड खेलों में गोल्ड मेडलिस्ट हैं। Bheem is Asian Games Winner

ये भी पढ़िए : जानिए महाभारत में ‘मैं समय हूं’ आवाज के पीछे कौन है कलाकार?

‘महाभारत’ में रोल अदा करने वाले हर कलाकार ने अपनी एक्टिंग से दर्शकों के बीच गहरी छाप छोड़ी. इन दिनों महाभारत के भीम (Bheem) की चर्चा खूब हो रही है. क्या आप जानते हैं कि वो एक भारत के खिलाड़ी भी रह चुके हैं. आज हम आपको ‘महाभारत’ में भीम का रोल अदा करने वाले एक्टर प्रवीण कुमार सोबती से जुड़ी बेहद दिलचस्प बातें बताने जा रहे हैं, जिसे जानकर आप यकीनन हैरान रह जाएंगे.

Bheem of Mahabharata is Asian Games Winner
Bheem is Asian Games Winner

महाभारत से मिली इस खिलाड़ी को पहचान :

महाभारत में अपनी लंबी-चौड़ी कद-काठी के लिए पहचाने वाले भीम, पांच पांडवों में से एक थे. बीआर चोपड़ा की महाभारत में जिस शख्स ने इस किरदार को निभाया था, उनका नाम प्रवीण कुमार सोबती (Praveen Kumar Sobti ) हैं. प्रवीण कुमार भारत के ‘हैमर थ्रो’ खिलाड़ी रहे हैं.  वो एश‍िया के नंबर वन ख‍िलाड़ी रह चुके हैं. खेल के मैदान में बेहतरीन ख‍िलाड़ी होने के बावजूद उन्हें सीरियल महाभारत से पहचान मिली.

कई प्रतियोगिताएं जीती :

प्रवीण ने कई प्रतियोगिताएं जीती और 1966 के कॉमनवेलथ गेम्स में डिस्कस थ्रो के लिए उनका सिलेक्शन किया गया. जमैका में आयोजित इस खेल प्रतियोगिता में प्रवीण ने सिल्वर मेडल जीता. 1972 में प्रवीण ने जर्मनी के म्यूनिक शहर में आयोजित ओलंपिक्स में हिस्सा लिया.

100 रुपए से शुरू किया था फिल्मी करियर :

‘महाभारत’ में भीम का रोल काफी ताकतवर था. इसे अदा करने वाले प्रवीण वास्तविक जीवन में भी ऐसे ही थे. प्रवीण कुमार सोबती एक एथलीट थे. अभिनय की दुनिया में आने से पहले प्रवीण स्पोर्ट्स में थे. वह हैमर और डिस्क थ्रो में एशिया के नंबर एक खिलाड़ी रहे. लेकिन अचानक वह अभिनय की ओर बढ़ गए.

प्रवीण ने 100 रुपये के शगुन के साथ अभिनय में हाथ आजमाया. प्रवीण उस समय ग्वालियर में बीएसएफ में थे. करियर बदलने का विचार उनके दिमाग में यहीं आया. वह फिर से सुर्खियों में आने के लिए कुछ और करना चाहते थे. भगवान ने उनके मन की बात सुनी और बहुत जल्द उन्हें फिल्म का प्रस्ताव मिला.

ये भी पढ़िए : कुरुक्षेत्र में ही क्यों लड़ा गया था महाभारत का युद्ध

जिंदगी का सबसे अहम मोड़ :

एक इंटरव्यू के दौरान प्रवीण ने बताया था कि वो एशियन खेलों में हिस्सा लेने के लिए हैमर थ्रो की प्रैक्टिस कर रहे थे और तब उनकी मुलाकात एक कास्टिंग डायरेक्टर से हुई थी. सालभर बाद उन्हें मुंबई से बुलावा आया और मुंबई में कुछ छोटे मोटे रोल करने के बाद प्रवीण की जिंदगी का सबसे अहम मोड़ आया.

भीम के लिए परेशान थे बी आर चोपड़ा :

उन्होंने बताया कि महाभारत की पूरी कास्ट फ़ाइनल हो गई थी लेकिन भीम के लिए बी आर चोपड़ा साहब परेशान थे.मुझे देखते ही बोले, चलो भई शूटिंग की तैयारी करो भीम मिल गया है. उन्होंने कहा थी कि लोग आज भी मुझे प्रवीण के नाम से कम और भीम के नाम से ज्यादा जानते हैं.

Bheem of Mahabharata is Asian Games Winner
Bheem is Asian Games Winner

दमदार शरीर बनाने में लगे 3 साल :

प्रवीण ने एक्ट‍िंग में आने से पहले अपने शेड्यूल के बारे में बताया था कि वो रोज दमदार शरीर बनाने के लिए प्रैक्टिस करते थे. गांव में कोई जिम जैसी चीज नहीं थी और न ही तब तक मैंने ऐसी चीज देखी थी. मां घर में जो चक्की अनाज पीसने के लिए इस्तेमाल करती थी, उसी की सिल्ल‍ियों का वजन उठाकर मैं ट्रेनिंग करता था. रोज सुबह 3 बजे से सूरज निकलने तक मैं ट्रेनिंग करता था. तीन साल लगे शरीर बनाने में और जब जानने वालों ने मुझे देखा तो वो पहचान नहीं पाए. मेरा शरीर एकदम देसी खुराक से बना था.

हार चुके हैं चुनाव :

प्रवीण कुमार ने फिल्म ‘रक्षा’ से बॉलीवुड में कदम रखा. 2013 में प्रवीण ने आम आदमी पार्टी (AAP) में शामिल हो गए. उन्होंने वज़ीरपुर सीट से AAP के टिकट पर दिल्ली विधानसभा चुनाव लड़ा, लेकिन वे हार गए.

ये भी पढ़िए : करवा चौथ पर प्रेगनेंट महिलाएं कुछ यूं रखें अपना ख्याल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here