जानिए ब्रेन ट्यूमर के संकेत, भूलकर भी ना करें इग्नोर

0
38

Brain Tumor Symptoms : हम में से अधिकांश लोग ऐसा मानते हैं कि ब्रेन ट्यूमर सिर्फ दिमाग को प्रभावित करता है, लेकिन ऐसा नहीं है। क्योंकि दिमाग ही पूरे शरीर को संचालित करता है तो ऐसे में दिमाग में गड़बड़ी होने पर शरीर के हिस्से भी प्रभावित होते हैं। इसलिए आपको बताने जा रहे हैं कि जब भी दिमाग में ट्यूमर होता है तो शरीर में किस तरह के बदलाव देखने को मिलते हैं। Brain Tumor Symptoms

ये भी पढ़िए : 1 लाख में 5 को होती है इरफान वाली बीमारी, ऐसे होता है इलाज !

जब सिरदर्द बार-बार होने लगे और ये काफी तेज हो तो इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज ना करें, क्योंकि ये किसी गंभीर रोग का लक्षण हो सकता है, जैसे ब्रेन ट्यूमर। यह कहना है मैक्स सुपर स्पेशिएलिटी हास्पिटल मोहाली के डाक्टरों का।

न्यूरोसर्जरी डिपार्टमेंट के कंसलटेंट डॉ. आशीष गुप्ता ने बताया कि सिरदर्द ब्रेन ट्यूमर का लक्षण हो सकता है, लेकिन ट्यूमर संबंधित कई अन्य संकेत या परिस्थितियां भी हो सकती हैं, जिसके कारण सिरदर्द होता हो।

अमूमन लोग मानते हैं कि ब्रेन ट्यूमर सिर्फ दिमाग को ही प्रभावित करता है, लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है। दरअसल, दिमाग ही पूरे शरीर की कार्यप्रणाली को संचालित करता है तो उसमें गड़बड़ी होने पर शरीर भी स्वस्थ तरीके से कार्य नहीं करता।

भले ही ब्रेन ट्यूमर के कारण शरीर पर हानिकारक असर न हो लेकिन फिर भी यह उसके प्रभाव से अनछुआ नहीं है। जब भी दिमाग में ट्यूमर होता है तो उसके कारण शरीर में भी कई तरह के बदलाव देखने को मिलते हैं-

Brain Tumor Symptoms

सुन्न होना :

ब्रेन ट्यूमर के कारण व्यक्ति को चेहरे या शरीर के विभिन्न हिस्से अधिकतर सुन्न हो जाते हैं। खासतौर से, अगर ट्यूमर ब्रेन स्टेम पर विकसित होता है। यह वह स्थान है, जहां पर मस्तिष्क रीढ़ की हड्डी से जुड़ता है और यहां पर ट्यूमर पूरे शरीर में सुन्न होने का अहसास होता है।

लड़खड़ाना :

अगर सैरिबेलम में ट्यूमर होता है, तो व्यक्ति को कोऑर्डिनेशन अर्थात समन्वय में परेशानी होती है। सैरिबेलम में ट्यूमर होने पर व्यक्ति अक्सर लड़खड़ाने लगता है।

इसके कारण व्यक्ति को चलने में परेशानी से लेकर रोजमर्रा के कार्यों, यहां तक कि खाने में भी परेशानी होती है। इसके अतिरिक्त अगर ट्यूमर मस्तिष्क के बैसल गैन्ग्लिया हिस्से में होता है तो इससे शरीर की असामान्य पोजिशन होती है।

ये भी पढ़िए : सावधान ! हार्ट अटैक आने से महीने भर पहले ही शरीर देता है ये संकेत…

दौरे आना :

ब्रेन में ट्यूमर और शरीर पर उसके प्रभाव का आपस में गहरा नाता है। जब व्यक्ति को ब्रेन ट्यूमर होता है तो उसे अक्सर दौरे आने लग जाते हैं। दरअसल, ट्यूमर के कारण मस्तिष्क में इरिटेशन होती है, जो न्यूरॉन्‍स को बेकाबू करती है और आपके भीतर असामान्य हलचलें होती हैं।

वैसे ट्यूमर की तरह ही दौरों के भी कई रूप देखने को मिलती है। जैसे पूरे शरीर या शरीर के किसी हिस्से या मसल्स में झटका या ऐंठन, बेहोशी सभी दौरे का ही एक रूप है।

दृष्टि संबंधी समस्याएं :

वहीं अगर ट्यूमर मस्तिष्क के पिछले हिस्से या पिट्यूटरी ग्रंथि के आसपास है तो इसका सीधा असर आपकी आंखों पर पड़ता है। इसके कारण व्यक्ति को धुंधला दिखाई देना या डबल दिखाई देना शुरू हो जाता है।

सुनने में परेशानी :

जिन लोगों के ब्रेन में ट्यूमर कपाल तंत्रिका के करीब होता है, उनकी सुनने की क्षमता लगभग खो जाती है। इसके अतिरिक्त उन्हें बैलेंस करने में समस्या, चेहरे की मांसपेशियों का कमजोर होना व भोजन निगलने में भी समस्या होती है।

Brain Tumor Symptoms

समझने में दिक्कत :

ब्रेन ट्यूमर व्यक्ति की सोचने-समझने की क्षमता को काफी हद तक प्रभावित करता है। ब्रेन के कुछ हिस्सों में ट्यूमर होने पर व्यक्ति को न सिर्फ बोलने में कठिनाई होती है, बल्कि उसे शब्दों को समझने में भी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। वहीं मस्तिष्क के सामने के हिस्से में ट्यूमर व्यक्ति की सोच और व्यक्तित्व को विपरीत तरीके से प्रभावित करता है।

तेज सिरदर्द :

ट्यूमर मस्तिष्क के चाहे किसी भी हिस्से में हो, यह खोपड़ी के भीतर दबाव उत्पन्न करता है। जिसके कारण व्यक्ति को तेज सिरदर्द से लेकर, जी मचलाना, उल्टी आदि की समस्या होती है। इतना ही नहीं, इसके कारण व्यक्ति को हमेशा सुस्ती आना या सोने में परेशानी होना जैसी दिक्कत होती है। इसके अतिरिक्त इस दबाव के कारण व्यक्ति कोमा में भी जा सकता है।

ये भी पढ़िए : पत्तागोभी खाना हो सकता है खतरनाक, जानिए नुकसान और बचाव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here