आपका सोना असली है या नकली? इन 5 आसान तरीकों से घर पर ही कर सकते हैं पहचान

0
105

भारतीय परम्परा में गहनों का विशेष महत्व है, खासकर सोने से बने गहनों का । शादी का सीजन हो या कोई त्यौहार-उत्सव, सोने की मांग हमेशा बनी रहती है। सोना आज भी लोगों की पहली पंसद है, पर इसके साथ ही इसकी शुद्धता को लेकर लोगों में अक्सर संशय बना रहता है। जब लोग अपनी गाढ़ी कमाई लेकर सोना खरीदने पहुंचते हैं तो उसकी शुद्धता को लेकर सबसे अधिक दुविधा बनी रहती है।

वैसे ऐसे मामले में डर से नहीं बल्कि सतर्क होकर काम लेना चाहिए। दरअसल सोना असली है या नकली इसे पहचानने के कई आसान तरीके हैं, जिन्हें आप खुद भी आजमा सकते हैं और अपनी मेहनत की कमाई, नकली सोने में बहाने से बच सकते हैं। तो चलिए जानते हैं सोने की शुद्धता परखने के कुछ आसान तरीकों के बारे में..

Read : जानिए क्या होता है जब पूजा में चढ़ाया नारियल ख़राब निकल जाए

वैसे सरकार ने हॉलमार्क के विज्ञापनों के जरिए ग्राहको को काफी हद तक इस दिशा में जागरूक करने की कोशिश की है, पर इसके बावजूद कुछ लोग पैसे बचाने के चक्कर में ठगने वाले सुनारों के झांसे में आ जाते हैं और नकली सोना खरीद बैठते हैं, अगर आपने भी किसी लोकल शॉप से कोई ज्वेलरी खरीद रखी है और उसकी शुद्धता को लेकर संशय में हैं, तो इन उपायों के जरीए उसकी शुद्धता की जांच कर सकते हैं..

दांतों से करें पहचान :

वहीं सोने की शुद्धता परखने का एक तरीका ये भी है कि सोने को अपने दांतों के बीच थोड़ी देर दबा कर रखें, इसके बाद अगर इस पर आपके दांतों के निशान दिखाई तो इसका मतलब है कि वो असली है। दरअसल सोना बहुत ही नाजुक धातु होती है, इसलिए ज्वेलरी भी कभी प्योर सोने की नहीं बनती बल्कि इसमें कुछ मात्रा दूसरी धातु मिलाई जाती है। वैसे ध्यान रहे इस टेस्ट को आराम से करें, क्योंकि अधिक तेज से दबाने से सोना टूट भी सकता है।

मैग्नेट टेस्ट

सोने की शुद्धता जांच करने के लिए आप मैग्नेट टेस्ट कर सकते हैं, दरअसल सोना चुम्बकीय धातु नहीं है। ऐसे में अगर आपको अपनी किसी सोने की ज्वेलरी को लेकर सशंय है तो इसके लिए एक स्ट्रांग चुंबक लें और उसे उस सोने के गहने से चिपकाएं.. अगर आपका सोना चुंबक की ओर थोड़ा सा भी आकर्षित होता है तो इसका मतलब है कि सोने में कुछ मिलावट है। इसलिए आगे से आप मैग्नेट टेस्ट करके ही सोना खरीदें।

एसिड टेस्ट

एसिड से भी आप नकली सोने की पहचान कर सकते हैं .. इसके लिए आप सोने पर एक पिन से हल्का सी खरोच लगाएं और फिर उस खरोच वाली जगह पर नाइट्रिक एसिड की एक बूंद डाले। अगर सोना तुरंत ही हरा हो जाता है तो इसका मतलब है कि आपका सोना नकली है, वहीं अगर सोने पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता तो आप निश्चिंत हो जाए क्योंकि असली सोने पर इसका असर नहीं होता।

Read : भगवान की आरती में क्यों होता है कपूर का प्रयोग.

वाटर टेस्ट :

सोने की शुद्धता जांचने का सबसे आसान तरीका है वाटर टेस्ट, इसके लिए किसी गहरे बर्तन में लगभग 2 ग्लास पानी डालें और फिर उसमें अपनी सोने की ज्वेलरी डाल दें। थोड़ी देर में अगर आपका सोना तैरता दिखता है तो इसका मतलब है वो असली नही नकली है, वहीं, आपकी ज्वेलरी डूब कर सतह पर बैठ जाए तो वो असली है। दरअसल सोना कभी तैरता नहीं बल्कि वो डूब जाता है। साथ ही आपको ये भी बता दें कि ये असली सोने में कभी भी जंग नहीं लगती है।

सिरामिक थाली से करें पहचान

सिरामिक थाली से भी आप सोने की शुद्धता जांच सकते हैं, इसके लिए आप बाजार से एक सिरामिक थाली ले आएं और अपने सोने की ज्वेलरी को उस पर घिसे.. अगर उस थाली पर काले निसान पड़ें जाएं तो आपका सोना नकली है, वहीं अगर हल्के सुनहरे रंग के निशान पड़ते हैं तो आपका सोना असली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here