क्या होता है सिबिल स्कोर, कैसे होता है ये आपके लोन के लिए फायदेमंद

0
45

नमस्कार दोस्तों, क्या आपने कभी CIBIL score के बारे में सुना है? आप जब कोई वस्तु finance के जरिए लेने जाओ या फिर Credit card बनवाते वक्त आपने CIBIL score के बारे में सुना होगा। आखिर ये CIBIL score क्या होता है? इसे कहाँ इस्तेमाल होता है? यह credit score को कहाँ चेक करे? इन सब की जानकारी हम इस article में जानेंगे।

लोगों को जब पैसे की जरूरत होती है तो बहुत से लोग बैंक में लोन के लिए अप्लाई करते हैं. लेकिन बैंक किसी को भी लोन देने से पहले व्यक्ति का सिबिल स्कोर देखती है. लेकिन क्या आपको ये पता है कि सिबिल स्कोर क्या होता है? तो आइए आपको बताते हैं कि सिबिल स्कोर क्या है और ये कैसे आपके लोन के लिए फायदेमंद होता है.

ट्रांसयूनियन सिबिल लिमिटेड भारत की पहली क्रेडिट इन्फॉर्मेशन कंपनी है. इस कंपनी को लोग आमतौर पर लोग क्रेडिट ब्यूरो के नाम से भी जानते हैं. इस कंपनी का काम ये होता है कि ये उपभोक्ताओं के बारे में ऐसी जानकारी उपलब्ध कराती है, जिसकी मदद से कंपनियों का व्यापार तेजी से बढ़ सके और उपभोक्ताओं को जल्दी और आसान शर्तों पर कम ब्याज में कर्ज मिल सके.इस कंपनी के पास 2,400 से भी ज्यादा सदस्य हैं, जिनमे बड़े बड़े बैंक, वित्तीय कंपनियां, गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां और हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां शामिल हैं.

जब भी आप किसी वस्तु को finance के जरिए EMI से खरीदते है, या फिर bank loan लेते है तब आपका CIBIL score update होता है।

Credit Information Bureau (India) Limited (CIBIL) यह एक संस्था है जो देश भर की बैंक और फाइनेंस कंपनियों से ग्राहकों के द्वारा लिए गए loan और credit card के जानकारी को जुटाती है। यह संस्था सन 2000 मे स्थापन कि गई थी।

जब भी हम जैसे ग्राहक Credit score या CIBIL score की मांग करते है तो यह संस्था आपके finance के मासिक किश्त(EMI) या credit card का मासिक किश्त(EMI) को एक रिपोर्ट के जरिए पेश करती है। यह report को Credit Information Report (CIR) या CIBIL credit report कहते है।

कैसे होता है सिबिल स्कोर का निर्धारण

इस काम के लिए कंपनी एक बहुत ही पेचीदा अल्गोरिथम का इस्तेमाल करती है. इसमें जो व्यक्ति लोन लेना चाहता है, उसकी पिछले 6 महीने कि रिपोर्ट चेक की जाती है. इसके अलावा उस व्यक्ति के फाइनेंसियल डाटा का अध्ययन किया जाता है.

इसके अलावा भी कुछ फैक्टर्स जैसे समय पर लोन अदायगी, क्रेडिट कार्ड के बिल का भुगतान जैसे प्वाइंट्स पर भी ध्यान दिया जाता है. इस बात का ध्यान देना होता है कि किसी भी व्यक्ति का सिबिल स्कोर तभी अच्छा होगा, जब वो अपने लोन की किस्तें समय पर भरे और अपने क्रेडिट कार्ड का भुगतान समय पर करे.

कितना सिबिल स्कोर अच्छा माना जाता है

आमतौर पर एक अच्छा सिबिल स्कोर 750-900 तक का माना जाता है. अगर किसी व्यक्ति का स्कोर 750 से ऊपर है तो बैंक या अन्य गैर बैंकिंग वित्तीय कम्पनियां उस व्यक्ति को आसानी से लोन दे देती हैं. लेकिन ध्यान देने वाली बात ये है कि अगर किसी का स्कोर 750 से कम है तो उस व्यक्ति को लोन मिलने में परेशानी हो सकती है.

कैसे सुधारा जा सकता है सिबिल स्कोर

ध्यान देने की बात है कि कोई भी व्यक्ति अपना अच्छा क्रेडिट इतिहास रखकर अपना क्रेडिट स्कोर बढ़ा सकता है.

1. हमेशा अपनी देय राशि को समय पर अदा करें क्योंकि देर से किये जाने वाले भुगतानों के कारण आपका स्कोर कम हो जाता है.

2. अत्यधिक क्रेडिट कार्ड का उपयोग करना हमेशा उचित नहीं होता, अपने इस उपयोग को नियंत्रित रखें.

3. इसके लिए किसी को भी अपने लोन में सुरक्षित लोन जैसे होम लोन, ऑटो लोन और असुरक्षित लोन जैसे पसर्नल लोन, क्रेडिट कार्डस दोनों ही प्रकार के लोनों का समावेश करना चाहिए.

4. लोन लेने के लिए हमेशा जल्द्वाजी में ना रहें. आप अपनी इमेज को एक हमेशा कर्जे में रहने वाले व्यक्ति के रूप में न बनायें.

5. आपको साल में एक बार अपने क्रेडिट इतिहास की समीक्षा करनी चाहिए.

6. किसी वित्तीय वर्ष में लिए गए लोनों की संख्या को कम करना जरूरी होता है.

7. अपने ऋण- आय अनुपात को कम करना चाहिए.

CIBIL credit score कम होने के क्या कारण है?

  • आपका credit score कम होने के कई कारण हो सकते है।
  • Loan का EMI को due date के पहले न भरना।
  • Loan के EMI को miss करना।
  • अपने दोस्त/रिश्तेदार के लोन में guarantor रहना – अगर आपके दोस्त/रिश्तेदार ने वक्त पे EMI pay नही किया तो उसका परीणाम आपके Credit score पर भी पड़ता है।
  • Credit card limit को पूरा इस्तेमाल करना – Credit card के limit को पूरी तरह से use करने पर CIBIL credit score पर असर होता है। प्रयास करे कि credit limit के अंदर ही card का इस्तेमाल करना।

CIBIL Score को बढ़ाने के तरीके।

अपने credit score को बढ़ाने के लिए कुछ खास करने की जरूरत नही होती। बस लोन के EMI वक्त पर भरे। ध्यान रखे अगर आपका एक भी EMI due date से बाद में चुकाया या उस महीने की EMI रकम आपने चुकाई ही नही तो आपका credit score खराब हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here