चाणक्य नीति: ऐसी महिलाओं से भूलकर भी नहीं करनी चाहिए शादी !

0
60

शादी हर किसी की जिंदगी का एक अहम पड़ाव होता है. हर कोई अपनी शादी के पल का इंतजार करता रहता है, भले किसी को शादी का क्रेज कम या ज्यादा हो सकता है. शादी जीवन भर का बंधन है और कोई भी शादी के बंधन में यह सोचकर नहीं बंधता कि उसकी जिंदगी शादी के बाद खराब हो जाएगी इसीलिए जीवनसाथी चुनने से पहले हर कोई कई चीजों को देखता है. चाणक्य नीति हर मामले में सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है और चाणक्य ने जीवन-साथी चुनने के संबंध में भी कई बातें बताई हैं. आइए जानते हैं, कौन सी हैं ये बातें…

सौंदर्य पर बुद्धि को प्राथमिकता-आजकल ज्यादातर पुरुष सोचते हैं कि वह किसी खूबसूरत लड़की से ही शादी करेंगे. हालांकि वह इस बात पर ध्यान देना भूल जाते हैं कि बाहरी सुंदरता का दिमाग और समझ से कोई लेना-देना नहीं होता है. इसलिए आप पूरी तरह से गलत साबित हो सकते हैं.

चाणक्य कहते हैं कि अगर कोई महिला बाहर से बहुत खूबसूरत हो लेकिन दिमाग से कमजोर तो पुरुषों को ऐसी महिलाओं से शादी नहीं करनी चाहिए.

आंतरिक सौंदर्य-अगर कोई महिला बहुत ही कठोर व जिद्दी है तो चाहे वह बला की खूबसूरत हो, उससे शादी नहीं करनी चाहिए. चाणक्य नीति के मुताबिक, ऐसी महिलाएं अपनी इच्छाएं पूरी करने के लिए अपने पति को भी धोखा दे सकती हैं.

चाणक्य कहते हैं-

अगर किसी महिला को झूठ बोलने की आदत है तो वह अपनी इस आदत को अपने पति के खिलाफ भी इस्तेमाल करेगी. फलस्वरूप कई बार वह परिवार वालों के बीच में फूट पैदा कर सकती है. पुरुषों को ऐसी महिलाओं से भी शादी करने से बचना चाहिए.

बुरा स्वभाव-चाणक्य नीति के मुताबिक, अगर किसी खूबसूरत महिला का स्वभाव बुरा है तो उसके पति के साथ उसका रिश्ता केवल दुखदायी ही साबित होगा इसलिए किसी भी व्यक्ति को ऐसी महिलाओं से शादी नहीं करनी चाहिए.

चाणक्य नीति कहती है

कि किसी भी शख्स को ऐसी महिला से शादी नहीं करनी चाहिए जिसकी पारिवारिक पृष्ठभूमि खराब रही हो फिर चाहे वह कितनी ही खूबसूरत हो. चाणक्य के मुताबिक, खराब खानदान से आने वाली लड़कियां घर संवारने के बजाए घर तोड़ सकती हैं.

धोखेबाजी-कोई महिला जो अपने परिजनों के साथ धोखा कर सकती है, वह अपने पति के साथ भी ऐसा कर सकती है. वह बाद के समय में अपने पति को को धोखा दे सकती है इसलिए चाणक्य नीति के मुताबिक, ऐसी महिलाओं से भी शादी नहीं करनी चाहिए.

आज के समय में चाणक्य की इस नीति पर बहस हो सकती है लेकिन चाणक्य को लगता था कि एक महिला को घर-गृहस्थी के सभी कामों में पारंगत होना चाहिए. चाणक्य के मुताबिक, अगर कोई महिला घर के काम करना नहीं जानती है तो उससे शादी नहीं करनी चाहिए.

चाणक्य के मुताबिक

अगर कोई महिला धार्मिक नहीं है तो उससे भी किसी पुरुष को शादी नहीं करनी चाहिए. चाणक्य कहते हैं, हर महिला को कुछ दिन उपवास रखना चाहिए और साथ ही नियमित तौर पर भगवान की पूजा करनी चाहिए. अगर कोई महिला ऐसा नहीं करती है तो फिर उससे शादी नहीं करनी चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here