आखिर वाहनों पर फास्टैग लगाना क्यों है जरूरी, जानिए सम्पूर्ण जानकारी

0
20

हेल्लो दोस्तों आजकल हर जगह Fastag की चर्चा जोरों पर है क्योंकि केंद्र सरकार ने सभी नेशनल हाईवे पर 15 दिसम्बर से ही टोल बूथ लाइनों पर Fastag अनिवार्य कर दिया था Fastag Pay Highway Toll Tax Online

हालांकि ज्यादातर वाहनों पर फास्टैग नही लगे होने के कारण राहत देते हुए 15 जनवरी तक की मोहलत दे दी थी

इसके साथ ही कहा गया था कि तय अवधि के बाद अगर कोई वाहन बिना फास्टैग लगाए फास्टैग लाइन से गुजरता है तो उसे दुगना टैक्स का भुगतान करना पड़ेगा लोगों से सर्कार ने अपील की है कि वाहनों पर फास्टैग लगवाने का काम जल्द कर लें

वहीँ जिन वाहनों पर फास्टैग लगा होगा और वह टोल बूथ से गुजरता है तो उन्हें 2.5% का कैशबैक मिलेगा इसके साथ ही उन्हें लम्बी लाइन से भी मुक्ति मिलेगी जिससे अनावश्यक ईंधन और समय भी बचेगा और बूथ पर खुल्ले रूपए की भी झंझट नही होगी

ये भी पढ़ें : इस वज़ह से दिन में भी जलती रहती है गाड़ियों की लाइट

टोल प्लाजाओं पर टोल कलेक्शन सिस्टम से होने वाली परेशानियों का हल निकालने के लिए “राष्ट्रीय हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया” द्वारा भारत में “इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन” (ETC) या फास्टैग सिस्टम शुरू किया गया है.  

इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम या फास्टैग स्कीम भारत में सबसे पहले साल 2014 में शुरू की गई थी.  जिसे धीरे धीरे पूरे देश के टोल प्लाजा के ऊपर  लागू किया जा रहा है. 

फास्टैग सिस्टम की मदद से आपको टोल प्लाजा में टोल टैक्स देने के दौरान होने वाली परेशानियों से निजात मिल सकेगी. फास्टैग की मदद से आप टोल प्लाजा में बिना रुके अपना टोल प्लाजा टैक्स दे सकेंगे आपको बस अपने बाहन पर फास्टैग लगाना होगा. 

FASTag Pay Highway Toll Tax Online
FASTag Pay Highway Toll Tax Online

राष्ट्रीय राजमार्गों पर एक दिसंबर के बाद यदि कोई वाहन फास्टैग (FasTag) के बिना टोल प्लाजा की फास्टैग लेन से गुजरता है तो उसे दुगुना टोल भरना पड़ेगा।

यह बात खुद केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कही है। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की प्रमुख पहल राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक पथकर संग्रह (NETC) के तहत टोल भुगतान गेट से सिर्फ फास्टैग के जरिए ही भुगतान होगा।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के मुताबिक देशभर के 537 टोल प्लाजा में से महज 17 को छोड़कर सभी टोल प्लाजा फास्टैग हो जाएंगे। आपको बता दें कि 17 प्लाजा अभी नए हैं उनमें धोड़ा समय लगेगा लेकिन वह भी फास्टैग हो जाएंगे।

ये भी पढ़ें : पावरफुल होता है इंडियन ड्राइविंग लाइसेंस, इन 8 देशों में भी चला सकते हैं गाड़ी

आखिर क्या है फास्टैग ? :

फास्टैग को इलेक्ट्रानिक टोल कनेक्शन सिस्टम भी कहा जाता है। भारत में इसकी शुरुआत सबसे पहले साल 2014 में हुई थी।

यह एक तरह का रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन टैग है। जिसके जरिए सरकार वाहन चालकों को राहत देने जा रही है।

दरअसल, सरकार ने राष्ट्रीय राजमार्गों पर बने टोल प्लाजा लेन को इलेक्ट्रानिक टोल कनेक्शन से लैस किया है।

FASTag Pay Highway Toll Tax Online
FASTag Pay Highway Toll Tax Online

कैसे करें फास्टैग का इस्तेमाल :

फास्टैग के जरिए टोल प्लाजा में टोल टैक्स का भुगतान करते समय जिन परेशानियां का चालक को सामना करना पड़ता है उससे निजात मिलेगी।

फास्टैग के जरिए आप टोल प्लाजा में बिना रुके ही टोल टैक्स दे सकते हैं। इसके लिए बस आपको अपने वाहन में फास्टैग लगाना होगा और आपके फास्टैग अकाउंट से पैसे खुद-ब-खुद कट जाया करेंगे।

वहीं जब आपके फास्टैग अकाउंट में जमाराशि समाप्त हो जाएगी तो आपको उसका रिचार्ज करना पड़ेगा। इसकी वैधता 5 साल की होगी। 5 साल पूरे होने के बाद आपको फिर से अपनी गाड़ी में फास्टैग लगवाना पड़ेगा या फिर उसे रिन्यू कराना पड़ेगा।

ये भी पढ़ें : पेट्रोल पंप पर मुफ़्त में मिलने वाली इन सुविधाओं के बारे में नही जानते होंगे आप

फास्टैग को कहां लगाना पड़ेगा? :

अब यह सवाल हर किसी के ज़हन में उठ रहा है कि फास्टैग को आखिर लगाएंगे कहां। तो सुनिए फास्टैग को आप अपने वाहन की विंडस्क्रीन पर लगाएंगे।

आपको बता दें कि काफी चालकों ने अपनी गाड़ियों में फास्टैग लगा लिया है। फास्टैग लगाने से आपको लंबी-लंबी कतारों में अपना समय खपाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

जैसे ही आप टोल प्लाजा को क्रास करेंगे खुद-ब-खुद भुगतान हो जाएगा। इससे आपका समय तो बचेगा ही साथ ही साथ पेट्रोल या फिर डीजल की भी बचत होगी।

मिली जानकारी के मुताबिक फास्टैग का इस्तेमाल करने वाले लोगों को टोल भुगतान पर 2.5 प्रतिशत का कैशबैक भी मिलेगा।

यहां मिलेगा फास्टैग :

वाहन चालकों को यह फास्टैग सभी टोल प्लाजा के साथ-साथ कुछ बैंकों में मिलेगा। जिनमें एसबीआई (sbi fastag), एचडीएफसी (hdfc fastag) और आईसीआईसीआई (icici fastag) बैंक शामिल हैं।

इसे आप पेमेंट साइट Paytm और Amazon.in से भी खरीद सकते हैं। साथ ही साथ यह इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन और भारत पेट्रोलियन के पेट्रोल पंप में भी उपलब्ध है।

फास्टैग लेने के लिए बस आपको एक फॉर्म फिल करना पड़ेगा। फॉर्म फिल करने के लिए आपके पास वाहन का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट, चालक की फोटो और केवाईसी कागजात होना चाहिए।

जिसके बाद एक फास्टैग खाता आपके नाम पर एलॉट हो जाएगा। फिर आप इसका इस्तेमाल कर सकेंगे।

इन बैंकों के साथ FASTag Recharge करें:

देश भर के सभी राजमार्गों पर टोल शुल्क का भुगतान करना आसान बनाने के लिए कई राष्ट्रीयकृत बैंकों ने Paytm FASTag की शुरुआत की है | फास्टैग रिचार्ज ऑनलाइन बैंक की सूची इस प्रकार है:

HDFC Bank, ICICI Bank, Syndicate Bank, Axis Bank, IDFC Bank, State Bank of India (SBI Bank)

FASTag Pay Highway Toll Tax Online

आवश्यक डाक्यूमेंट्स :

फास्ट टैग अकाउंट खोलने के वक्त आपको दिए गए एक फॉर्म के साथ निम्नलिखित दस्तावेजों को भी जमा करवाने की आवश्यकता पड़ेगी, जो इस प्रकार है-

# वाहन के पंजीकरण प्रमाण पत्र( RC)
# वाहन मालिक का पासपोर्ट साइज के फोटो
# मालिक के केवाईसी दस्तावेज और एड्रेस प्रूफ
(इनमें से कोई भी – आधार कार्ड / पैन / राशन कार्ड / वोटर आईडी / ड्राइविंग लाइसेंस) |

वैसे आपको बता दें सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने सभी गाड़ी निर्माताओं कंपनी और वाहन डीलरों को यह सुनिश्चित करने को कहा है, कि खरीदे जाने वाले वाहनों पर उसके मालिक द्वारा फास्ट टैग जरूर लगवाया जाए इसीलिए अब यह आवश्यक है कि आपको फास्टैग अपने वाहन पर लगवाना होगा.

ये भी पढ़ें : क्या आपका ड्राइविंग लाइसेंस DL भी सन् 2000 के बाद बना है, तो अभी पढ़ें ये खबर

रखना होगा मिनिमम बैलेंस :

फास्टैग लेने के लिए आपको वाहन के रजिस्ट्रेशन का सर्टिफिकेट, एक फोटो, एड्रेस प्रूफ और कुछ अन्य संबंधित कागजात देने होंगे।

जिसके पास चार पहिया वाहन या उससे बड़ा वाहन है, वह फास्टैग ले सकता है। दो पहिया वाहनों के लिए ये जरूरी नहीं है।

पहली बार फास्टैग के लिए वन टाइम ज्वाइनिंग फीस 150 से लेकर 200 रु है जबकि इसके बाद अलग-अलग वाहनों के लिए 200 से लेकर 500 रु तक सिक्योरिटी डिपॉजिट देना पड़ेगा। इसके लिए न्यूनतम 100 रु का बैलेंस रखना अनिवार्य होगा।

फास्टैग नहीं तो दोगुना भुगतान :

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने साफ शब्दों में कहा कि एक दिसंबर के बाद यदि कोई वाहन फास्टैग के बिना टोल प्लाजा की फास्टैग लेन से गुजरता है तो उसे दोगुना टोल भरना पड़ेगा।

आपको बता दें कि फास्टैग वाली गाड़ियां ही फास्टैग से निकल सकेंगी। लेकिन जिन वाहनों में फास्टैग नहीं लगा होगा उन्हें फास्टैग लेन से निकलने पर दोगुना भुगतान करना पड़ेगा।

हालांकि, टोल प्लाजा पर एक लेन ऐसी भी होगी जहां बिना-टैग वाले वाहनों से सामान्य टोल ही वसूला जाएगा।

ये भी पढ़ें : तो ये हैं वो लोग जिनकी आवाज़ें आप मेट्रो रेल में सुनते हैं

गडकरी ने कहा कि फास्टैग को लोकप्रिय बनाने के लिए भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) एक दिसंबर तक इसे निशुल्क वितरित कर रही है।

जबकि एक दिसंबर के बाद एनएचएआई फास्टैग के लिए राशि लेगा। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अगले पांच साल में एनएचएआई की सालाना आय बढ़कर एक लाख करोड़ रुपए तक पहुंच जाने की उम्मीद है।

अगले दो साल में एनएचएआई का टोल राजस्व 30 हजार करोड़ रुपए तक पहुंच जाने का अनुमान है।

Keywords : fastag, sbi fastag, icici fastag, hdfc fastag, fastag recharge, fastag recharge online, toll plaza fastag, apply fastag online

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here