Categories: लाइफ स्टाइल

Geneva Convention: क्या है जेनेवा संधि? जानिए क्या होता है युद्धबंदियों (POW) के साथ

पाकिस्तान के दावे पर पुष्टि करते हुए भारत के विदेश मंत्रालय ने बुधवार शाम एक बयान जारी किया. बयान में कहा गया कि हमारा एक पायलट पाकिस्तान की कस्टडी में है और हम पाकिस्तान से मांग करते हैं कि वह भारतीय वायुसेना के उस पायलट को तुरंत सुरक्षित वापस भेजें. भारत ने यह भी कहा कि पाकिस्तान यह सुनिश्चित करे कि सैनिक को कोई नुकसान नहीं पहुंचे. बता दें कि जेनेवा समझौते के तहत पाकिस्तान भारत के पायलट को नुकसान नहीं पहुंचा सकता. Geneva Convention Rules

युद्धबंदियों (POW) के अधिकारों को बरकरार रखने के जेनेवा समझौते (Geneva Convention) में कई नियम दिए गए हैं. जेनेवा समझौते में चार संधियां और तीन अतिरिक्त प्रोटोकॉल (मसौदे) शामिल हैं, जिसका मकसद युद्ध के वक्त मानवीय मूल्यों को बनाए रखने के लिए कानून तैयार करना है. मानवता को बरकरार रखने के लिए पहली संधि 1864 में हुई थी. इसके बाद दूसरी और तीसरी संधि 1906 और 1929 में हुई. द्वितीय विश्व युद्ध के बाद 1949 में 194 देशों ने मिलकर चौथी संधि की थी.

Geneva Convention Rules

इंटरनेशनल कमेटी ऑफ रेड क्रास के मुताबिक जेनेवा समझौते में युद्ध के दौरान गिरफ्तार सैनिकों और घायल लोगों के साथ कैसा बर्ताव करना है इसको लेकर दिशा निर्देश दिए गए हैं. इसमें साफ तौर पर ये बताया गया है कि युद्धबंदियों (POW) के क्या अधिकार हैं. साथ ही समझौते में युद्ध क्षेत्र में घायलों की उचित देखरेख और आम लोगों की सुरक्षा की बात कही गई है. जेनेवा समझौते में दिए गए अनुच्छेद 3 के मुताबिक युद्ध के दौरान घायल होने वाले युद्धबंदी का अच्छे तरीके से उपचार होना चाहिए.

युद्धबंदियों (POW) के साथ बर्बरतापूर्ण व्यवहार नहीं होना चाहिए. उनके साथ किसी भी तरह का भेदभाव नहीं होना चाहिए. साथ ही सैनिकों को कानूनी सुविधा भी मुहैया करानी होगी. जेनेवा संधि के तहत युद्धबंदियों को डराया-धमकाया नहीं जा सकता. इसके अलावा उन्हें अपमानित नहीं किया जा सकता. इस संधि के मुताबिक युद्धबंदियों (POW) पर मुकदमा चलाया जा सकता है. इसके अलावा युद्ध के बाद युद्धबंदियों को वापस लैटाना होता है. कोई भी देश युद्धबंदियों को लेकर जनता में उत्सुकता पैदा नहीं कर सकता. युद्धबंदियों से सिर्फ उनके नाम, सैन्य पद, नंबर और यूनिट के बारे में पूछा जा सकता है.

जेनेवा संधि से जुड़ी मुख्य बातें

(Geneva Convention Rules)

  • इस संधि के तहत घायल सैनिक की उचित देखरेख की जाती है.
  • संधि के तहत उन्हें खाना पीना और जरूरत की सभी चीजें दी जाती है.
  • इस संधि के मुताबिक किसी भी युद्धबंदी के साथ अमानवीय बर्ताव नहीं किया जा सकता.
  • किसी देश का सैनिक जैसे ही पकड़ा जाता है उस पर ये संधि लागू होती है. (फिर चाहे वह स्‍त्री हो या पुरुष)
  • संधि के मुताबिक युद्धबंदी को डराया-धमकाया नहीं जा सकता.
  • युद्धबंदी की जाति, धर्म, जन्‍म आदि बातों के बारे में नहीं पूछा जाता.
Share
Jeena Seekho

Recent Posts

सुबह उठकर ना करें ये गलतियां, नहीं तो दिन जाएगा खराब

कुछ लोग सुबह उठते ही आईना देखते हैं लेकिन वास्तु के हिसाब से ऐसा करना गलत माना जाता है। इसके…

May 15, 2019 6:35 am

अगर अच्छी कमाई के बावजूद पैसा नहीं रुकता तो करें के ये उपाय

अक्सर लोग एक दूसरे से शिकायत करते हैं कि अच्छी खासी कमाई के बावजूद उनके घर में पैसा नहीं रुकता.…

May 14, 2019 6:08 am

क्या सच में जिंदा जला दिए थे महान चाणक्य

आचार्य चाणक्य के जीवन से जुड़ी कई बातें उनका जन्म, उनके द्वारा अपने जीवन में किए गए महान कार्य जैसे…

May 9, 2019 6:15 pm

टीम इंडिया के स्टार को लगी चोट, WC में पंत समेत ये 4 खिलाड़ी हैं विकल्प

30 मई इंग्लैंड में शुरू होने वाले आईसीसी वर्ल्ड कप से पहले टीम इंडिया के लिए बुरी खबर है. टीम…

May 6, 2019 4:54 am

तो इस वज़ह से शादी की पहली रात पीते हैं दूध

हमारा देश हमेशा से ही रीति रिवाजों से बंधा हुआ है इसलिए यहां हर चीज की शुरूआत रस्‍मों और रिवाजों…

May 5, 2019 2:25 pm

500 में से 499 अंक प्राप्त करने वाली सीबीएसई टॉपर ने बताया अपना सीक्रेट..!

मेहनत तो बहुत से लोग करते हैं मगर नंबर 1 केवल एक ही व्यक्ति आता हैं। ऐसे में कुछ लोगो…

May 4, 2019 3:59 am