गंजेपन की समस्या को खत्म कर देता है धतूरा, इन बीमारियों के लिए भी है काल

0
30

भांग, धतूरा सुनते ही हमारे दिमाग में भगवान भोलेनाथ का नाम आता है. क्योंकि धतूरा भगवान शिव का पसंदीदा फल है. धतूरे का फल वैसे तो काफी जहरीला माना जाता है इसका सेवन आपके लिए काफी घातक भी हो सकता है. भगवान शिव की पूजा करते समय भी धतूरा चढ़ाया जाता है. इसे शिवलिंग पर चढ़ाने से हर मनोकामना भी पूरी होती है. लेकिन कम लोग ही जानते हैं कि धतूरे का प्रयोग औषधि के रूप में भी किया जा सकता है. Health Benefits Of Dhatura

ये भी पढ़िए : हींग के इन अचूक उपायों से आपको मिलेगा संकटों से छुटकारा

धतूरे का प्रयोग केवल शरीर के बाहरी अंगों पर किया जाता है, क्योंकि इसका सेवन जहर की तरह आपके शरीर को हानि पहुंचा सकता है. आयुर्वेद में भी धतूरे के प्रयोग की बात सामने आई हैं. इसके प्रयोग से हर छोटी-बड़ी बीमारी का इलाज किया जा सकता है.

वहीं आयुर्वेद में भी इसके कई प्रयोग व उपयोग बताए गए हैं। कई औषध‍ियां बनाने में इसका प्रयोग किया जाता है। वहीं धतूरे का सेवन दमा, सूजन, गर्भधारण, मिर्गी, बवासीर और कमजोरी जैसी तमाम समस्‍याओं के लिए होता है।

Health Benefits Of Dhatura
Health Benefits Of Dhatura

घाव भरने के लिए :

धतूरा के प्रयोग से गहरे घाव को भरने में मदद मिलती है. इसमें एंटिसेप्टिक गुण पाए जाते हैं जो गहरे घाव को जल्द भर देता है, हालांकि इस बात का भी ध्यान रखने की जरूरत है कि इसका इस्तेमाल ज्यादा गहरे जख्मों पर न किया जाए. क्योंकि इसका इस्तेमाल करने से हमारी त्वचा की ऊपरी कुछ सतहों पर ही किया जा सकता है.

कान दर्द होने पर :

धतूरे में कुछ जहरीले तत्व पाए जाते हैं जो इंसान के शरीर के लिये बहुत हानिकारिक होते हैं. इसलिए इसका प्रयोग करने से बचना चाहिए. इसके अलावा इसका प्रयोग कान में दर्द होने पर भी किया जा सकता है.

धतूरे में मौजूद एंटी इन्फेल्मेट्री गुण कान के दर्द को थोड़ी देर में बंद कर देते हैं. हालांकि, बच्चों के कान में उपयोग करने से पहले आयुर्वेदिक डॉक्टर से सलाह जरूर ले लेनी चाहिए.

ये भी पढ़िए : जानिये कैसे महिलाओ के लिए रामबाण है पत्ता गोभी

पैरों के दर्द के लिए वरदान :

धतूूरे का प्रयोग जोड़ों के दर्द में भी किया जा सकता है. साथ ही पैरों में सूजन या भारीपन के लिए भी धतूरे का प्रयोग कर सकते हैं. इसके लिए धतूरे की पत्तियों को पीसकर लेप करना चाहिए. इससे आपको तत्काल आराम मिलेगा, क्योंकि गर्म तासीर का होने के कारण मांसपेशियों की प्राकृतिक सिकाई होती है और मांसपेशियां नरम पड़ जाती हैं.

जिससे मरीज को तत्काल आराम मिलता है. धतूरे के रस को तिल के तेल के साथ मिलाकर लगाने से भी मरीज को फायदा होता है. हालांकि, इस्तेमाल से पहले इसे थोड़ा गर्म कर लेना चाहिए.

गंजेपन का अचूक इलाज :

बता दें कि धतूरा गर्म तासीर का फल है. वैज्ञानिक दृष्टि से धतूरा सीमित मात्रा में लेने पर ही औषधि रहता है, इसके अलावा धतूरा गंजेपन की समस्या को भी खत्म कर देता है.

Health Benefits Of Dhatura
Health Benefits Of Dhatura

धतूरे का रस रोजाना सिर पर लगाने से बाल गिरना बंद हो जाते हैं साथ ही नए बाल भी आना शुरु हो जाते हैं. इसके अलावा धतूरा मिर्गी के रोगियों के लिए एक अचूक औषधि है. धतूरे की जड़ सुंघाने पर मिर्गी के रोगी को तत्काल लाभ होता है.

बवासीर में फायदेमंद :

अगर बवासीर से परेशान हैं तो ऐसे में ये इसका इलाज में भी कारगर हैं। धतूरे के पत्ते और फूलों को जलाकर इसके धुएं से बवासीर के मस्सों की सिकाई नियमीत करने से आपको काफी फायदा महसूस होगा।

ये भी पढ़िए : दाद, खाज, खुजली और चर्म रोग को जड़ से ख़त्म करने के घरेलु उपचार

इन रोगों में भी है कारगर :

  • धतूरे के फूल या पत्तियों को जला लें। इसके बाद इसके धुएं से बवासीर के मस्सों की सिकाई करें। इसके अलावा धतूरे के पत्तों को पीसकर इसका सेवन करने से भी माना जाता है कि बवासीर की समस्या खत्म हो जाती है।
  • धतूरे का रस निकालकर तिल के तेल में मिक्स करके गर्म करें। इसके बाद इस तेल से दर्द वाली जगहें पर मालिश करें। नियमित रूप से इसकी मालिश गठिया रोग को दूर कर देती।
  • धतूरे की पत्तियों, फूल और बीज को पीसकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को सरसों या तिल के तेल में पका लें और दर्द वाली जगहों पर लगाएं। इससे दर्द से तुरंत आराम मिल जाएगा।
  • आंख में दर्द, सूजन या इंफेक्शन को दूर करने के लिए इसके अर्क की कुछ बूंदें डालें। इससे आपको तुरंत आराम मिल जाएगा।
  • कान दर्द होने पर 250 मिलीग्राम सरसों का तेल, 60 मिलीग्राम गंधक और 500 ग्राम धतूरे के पत्तों को धीमी आंच पर पकाएं। इसके बाद इस तेल की 2 बूंदें कान में डालें। इससे कान का दर्द तुरंत गायब हो जाएगा।

ये भी पढ़िए : आंखों से लेकर पेट की समस्याओं में रामबाण है ‘दूब’ घास, फायदे जानकर रह जाएंगे दंग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here