कोरोना के खिलाफ आवश्यक है जनता कर्फ्यू, इस दौरान क्या करें और क्या नहीं

0
17

देश में कोरोना वायरस तेजी से पांव पसार रहा है. देश में अब तक 179 से भी ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, जबकि चार लोगों की जान जा चुकी है. स्कूल-कॉलेज बंद हैं. परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं. लोगों से बेवजह घर से न निकलने की अपील सरकार कर रही है. भय का माहौल है. ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित किया. Janta Curfew Against Corona Virus

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर देश में 14 अप्रैल तक देशभर में जनता कर्फ्यू लगा दिया गया है. इसके तहत लोगों से सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक लोगों से घर से बाहर ना निकलने की अपील की गई है. आइए जानते हैं कि जनता कर्फ्यू में क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए.

ये भी पढ़िए : दिखाई दें ये संकेत तो समझ जाएं हो गया है कोरोना वायरस का अटैक

प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न खतरे को विश्वयुद्ध से भी खतरनाक बताया और प्रत्येक देशवासी के सजग रहने की जरूरत पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि आज पूरा विश्व संकट के गंभीर दौर से गुजर रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि आपने हमें कभी निराश नहीं किया. आज फिर मैं सभी देशवासियों से कुछ मांगने आया हूं.

क्या है जनता कर्फ्यू :

जनता का, जनता के लिए, जनता के द्वारा लगाया गया कर्फ्यू जनता कर्फ्यू कहलाता है इससे पहले यह कर्फ्यू समस्त देश में स्वेच्छा से कोरोना के विरुद्ध 22 मार्च को आयोजित किया गया था. कोरोना वायरस अलग अलग परिस्थितियों में 3 से 72 घण्टे तक सक्रिय रह सकता है यानि कि उसकी उम्र इतनी ही है, वो भी अधिकतम 72 घण्टे तक, लेकिन ज़्यादातर 36 घण्टे में ये समाप्त हो जाता है। जब हम घर पर ही रहेंगे तो 36 घण्टे का हम अपने आप को घर में क्वारंटाइन निवास ही करेंगे।

janta curfew against corona virus
janta curfew against corona virus

कोरोना वायरस अगर कही है तो उसे, 36 घँटे के इस क्वारंटाइन वास या आइसोलेशन वार्ड जैसी स्थिति के चलते पनपने का माध्यम नही मिलेगा और वो लगभग समाप्त होने की स्थिति में पहुंच जायेगा। इस प्रकार से पूरा भारत एक वैज्ञानिक प्रयोग के माध्यम से कोरोना को हरा सकने की सशक्त स्थिति में आ जाएगा।

5 मिनट के लिए व्यक्त करना है आभार :

मोदी ने देश के हर सदस्य से अपील की है कि रविवार को शाम के पांच बजे दरवाजे पर या अपने घरों की छतों पर जाकर पांच मिनट तक ताली या घंटा बजाएं। इस कार्यक्रम से उन लोगों का आभार व्यक्त किया जाएगा जो दिन-रात कोरोना वायरस के खिलाफ अपनी जान की परवाह न करते हुए लड़ाई लड़ रहे हैं।

इसके अलावा पीएम मोदी ने लोगों को सलाह दी कि वे अस्पतालों में रूटीन चेक-अप के लिए ने जाएं, जितना हो सके उतना बचें। जिसके माध्यम से प्राणाकर्षण करके कोरोना से लड़ने वालो को सशक्त व सम्बल प्रदान किया जाएगा। अंग्रेजी में इसे LAW OF ATTRACTION कहते हैं।

भारत पर नहीं पड़ेगा असर, यह मानना गलत :

पीएम मोदी ने कहा कि आज जब बड़े-बड़े और विकसित देशों में कोरोना की महामारी का व्यापक प्रभाव दिख रहा है, ऐसे में यह मानना गलत होगा कि भारत पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. उन्होंने इससे लड़ने के लिए संकल्प और संयम को आवश्यक बताते हुए कहा कि देशवासियों को यह संकल्प और दृढ़ करना होगा कि महामारी को रोकने के लिए एक नागरिक के नाते अपने कर्तव्य और केंद्र, राज्य सरकार के दिशा-निर्देश का पालन करेंगे.

ये भी पढ़िए : जानिए कोरोना वायरस का नाम ‘कोरोना’ ही क्यों रखा गया है?

यह संकल्प लेना होगा कि हम खुद के साथ दूसरे लोगों को भी संक्रमित होने से बचाएंगे. प्रधानमंत्री ने कहा कि इस तरह की वैश्विक महामारी में एक ही मंत्र काम करता है ‘हम स्वस्थ तो जग स्वस्थ’. घर से बाहर निकलने से बचें, भीड़ से बचें. सोशल डिस्टैंसिंग जरूरी है.

घर से न निकलें वरिष्ठ नागरिक :

पीएम मोदी ने 65 साल से अधिक उम्र के व्यक्तियों से घर से बाहर न निकलने का आग्रह किया और जनता रविवार, 22 मार्च को जनता कर्फ्यू का आह्वान करते हुए कहा कि सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक जनता कर्फ्यू का पालन करें. उन्होंने कहा कि इसका अनुभव हमें आने वाली चुनौतियों के लिए तैयार करेगा.

पीएम ने रूटीन चेक-अप के लिए अस्पताल जाने से बचने की अपील की ओर कहा कि आर्थिक चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए वित्त मंत्री के नेतृत्व में सरकार Covid-19 Economic Response Task Force गठित करेगी.

janta curfew against corona virus
janta curfew against corona virus

नहीं होगी दूध-दवा और खाद्यान्न की कमी :

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आश्वस्त किया कि सरकार दूध-दवा और खाने-पीने के सामान की कमी नहीं होने देगी. इसके लिए जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं. उन्होंने व्यावसायियों और उच्च आय वर्ग के लोगों से जिनसे सेवाएं लेते हैं, उनके आर्थिक हितों का ध्यान रखने, वेतन में कटौती न करने की अपील की.

प्रधानमंत्री ने कहा कि ऐसे समय में कठिनाइयां भी आती हैं. आशंकाओं और अफवाहों का वातावरण भी उत्पन्न होता है. उन्होंने शक्ति की आराधना के पर्व नवरात्रि का जिक्र करते हुए कहा भारत पूरी शक्ति के साथ आगे बढ़े, यही शुभकामना है.

ये भी पढ़िए : दिखने लगें ये लक्षण तो समझों आपका लीवर हो गया है खराब

जनता कर्फ्यू के दिन करें ये प्लान :

  • यदि आप धार्मिक प्रवृत्ति के हैं तो सुंदरकांड का पाठ कर सकते हैं, अखंड रामायण एक शानदार विकल्प है। श्री सत्यनारायण जी की कथा एवं हवन ना केवल आपकी प्रोफेशनल लाइफ के लिए लाभदायक होगा बल्कि इसके हवन से आपका घर वायरस मुक्त हो जाएगा।
  • घर की छत पर दाल बाटी का प्रोग्राम बना सकते हैं। एक शानदार फैमिली पिकनिक हो जाएगी। कुछ देर धूप में रहेंगे। कोरोना वायरस से बचे रहेंगे।
  • मनपसंद खाना खाएंगे और नींद पूरी करेंगे। छुट्टियों के दिन कई लोग सारा दिन सोते रहते हैं। शाम को 7:00 बजे के बाद घर से बाहर निकलेंगे।
  • बच्चों के साथ कुछ गेम्स खेलेंगे। जॉब के कारण उन्हें टाइम नहीं दे पाते। एक दिन पूरा समय उन्हें देंगे।
  • मल्टीप्लेक्स बंद है। फिल्म देखने बाहर नहीं जा सकते लेकिन घर पर मनपसंद फिल्म देख सकते हैं। आइए हम कुछ मोबाइल एप्लीकेशंस बताते हैं जो आपको आपकी पसंदीदा फिल्म प्रोवाइड करा सकती हैं।

ये भी पढ़िए : 30 के बाद हर महिला को जरूर करवाने चाहिए ये टेस्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here