पैसों की तंगी से चाहिए छुटकारा तो बाथरूम में ऐसे रखें नीले रंग की बाल्टी

0
41

वास्तु शास्त्र में दिशाओं के साथ घर में रखी चीजें और उनके उपयोग के तरीकों से भी भाग्य और दुर्भाग्य आता है। विशेषकर बाथरूम में रखी बाल्टी व्यक्ति की किस्मत चमका सकता है।

वास्तु शास्त्र के अनुसार सफाई का स्थान होने के कारण बाथरूम में नकारात्मक ऊर्जा निवास करती है, इसलिए इसे हमेशा साफ-सुथरा रखा जाना चाहिए और इसका दरवाजा हमेशा बंद होना चाहिए ताकि इसकी नकारात्मकता घर में प्रवेश ना कर पाए। लेकिन शायद आपको पता ना हो कि यहां अगर एक खास रंग की बाल्टी, एक खास तरीके से रखी जाए तो आपको कभी भी आर्थिक समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा।

ज्योतिष की इस शाखा में रंगों का भी विशेष महत्व माना जाता है। नीले रंग को इसमें शुभता और खुशहाली का प्रतीक माना गया है। नीला रंग शीतलता और असीम (कभी ना खत्म होने वाला, जिसका ना कोई आदि और ना कोई अंत हो) होने का भी एहसास देता है। आकाश भी नीले रंग ही है, जब आप आंखें दौड़ाते हैं तो आपको आसमान का कोई ओर और छोर नजर नहीं आता।

नीले रंग की इन विशेषताओं के कारण वास्तु में आर्थिक समस्याएं दूर करने के लिए इसका प्रयोग करना महत्वपूर्ण माना गया है। अगर आपके घर में लगातार आर्थिक तंगी रहती है, पैसे आते हों लेकिन रुक ना पाते हों तो ऐसे में अपने बाथरूम में नीले रंग की एक बाल्टी रखें।

इसका ध्यान रखें कि यह कभी खाली नहीं होना चाहिए। इसमें थोड़ी मात्रा में या आधी बाल्टी पानी भरकर रखें। लेकिन इस पानी में भी सफाई का ध्यान रखा जाना आवश्यक है। इसलिए प्रतिदिन नीली बाल्टी के इस पानी को बदलते रहें।

यूं भी देखा जाए तो कई दिनों से जमा पानी डेंगू और चिकुनगुनिया जैसे मच्छरों को बुलावा देता है, जाहिर है अगर ऐसा हो गया तो आपकी अर्थिक स्थिति सुधरने की बजाय और खराब ही होगी। ऐसे में खुश रहने की आप कल्पना भी कैसे कर सकते हैं!

वास्तु शास्त्र के अनुसार भी पानी से भरकर बाथरूम में नीली बाल्टी रखना तभी फलदायी होगा जब आप इसमें सफाई का ध्यान रखें।

इसलिए अगर आप इस नियम का पालन करते हुए नीली बाल्टी अपने बाथरूम में रखेंगे, तो जहां आपके घर खुशहाली आएगी, वहीं कुछ ही दिनों में आपकी आर्थिक समस्याएं दूर होने लगेंगी। व्यापार-व्यवसाय के नए लाभकारी स्रोत मिलेंगे, बिगड़े काम बनने लगेंगे, नौकरी पेशा वालों को सफलता और प्रोन्नति मिलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here