तो इस वज़ह से किन्नर सिर्फ एक रात के लिए शादी कर दूसरे दिन हो जाते हैं विधवा

0
32

किन्नर का नाम सुनते ही हमारे मन में अजीब का सवाल आता है कि यह किस जाति के लोग है। जो कि न स्त्री है और न ही पुरुष। आप यह बात जानकर हैरान रह जाएंगे कि किन्नर भी शादी करते है। लेकिन इनकी शादी के जुड़े ऐसे तथ्य है। जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। किन्नर जिसे आप विवाह या फिर किसी शुभ मुहूर्त में शिरकत करके आर्शीवाद देखा होगा। माना जाता है कि किन्नर का आर्शीवाद किसी भगवान से कम नहीं होता है। लेकिन आप जानते है कि किन्नर भी एक दिन के लिए विवाह करते है। वो भी भगवान से। जानिए ऐसे ही किन्नर के विवाह से जुड़ी और रोचक बातें। Kinnar Vivah Ki Kahani

Read : रातो रात क़िस्मत बदल देती हैं किन्नर की दी हुई ये चीज़ें

करते है भगवान से विवाह

जी हां किन्नर एक दिन के लिए भगवान से विवाह करते है और दूसरे दिन ही विधवा हो जाते है। वह अपने भगवान अर्जुन और नाग कन्या उलूपी की संतान इरावन ज‌िन्हें अरावन के नाम से भी जाना जाते है। वह इनसे विवाह करते है।

जश्न के बाद होता है विलाप

Kinnar Vivah Ki Kahani
Kinnar Vivah Ki Kahani

आप ये बात जानकर हैरान रह जाएंगे कि विवाह के बाद किन्नर जश्न मनाते है। इसके बाद अपने देवता इरावन को पूरे शहर में घूमाते है। इसके बाद उस मूर्ति को तोड़ देते है। फिर किन्नर विलाप करते है और विधवा हो जाते है।

ऐसे हुई विवाह की शुरुआत

किन्नर के विवाह की शुरुआत महाभारत से बताई जा रही है। इसके अनुसार महाभारत के युद्ध में हिस्‍सा लेने से पहले पांडवों ने मां काली की पूजा की और पूजा के बाद इन्‍हें एक राजकुमार की बलि देनी थी। बलि के लिए कोई भी राजुकमार तैयार नहीं हुआ। मगर इरावन तैयार हो गया, लेकिन उसकी एक शर्त थी कि वह बिना शादी किए बलि पर नहीं चढ़ेगा। आप सबसे बड़ा सवाल था कि एक दिन के लिए इरावन से शादी कौन करेगा।

Read : इस किन्नर की खूबसूरती पर पागल हुआ कैदी, की ये हरकत

श्री कृष्ण ने निकाला हल

अब शादी की बात में श्री कृष्ण ने इसका हल निकाला। वह मोहिनी का रुप धारण करके आए और इरावन से शादी से की। अगले द‌िन सुबह इरावन की बल‌ि दे दी गई और श्री कृष्‍ण ने व‌िधवा बनकर व‌िलाप क‌िया। इस घटना को याद करके ही किन्‍नर एक दिन के लिए विवाह करते हैं और अगले दिन विधवा हो जाते हैं।

Kinnar Vivah Ki Kahani
Kinnar Vivah Ki Kahani

18 दिन चलता है विवाहोत्‍सव

अगर आप बी चाहते है कि किन्नरों का विवाह देखे तो आप तमिलनाडु जा सकते है। यहां तमिल नववर्ष की पहली पूर्णमासी को किन्‍नरों के विवाह का उत्‍सव शुरू होकर 18 दिनों तक चलता है। 17वें दिन ये अपने भगवान इरावन के साथ ब्‍याह रचाते हैं और अगले दिन सारा श्रृंगार उतारकर विधवा की भांति विलाप करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here