हथेली के इस भाग को कहते हैं गुरुपर्वत, इसमें छुपी हैं जीवन की ये बातें

हाथों की लकीरों में हमारे भविष्य से जुड़ी हुई कई बातें अंकित होती है जिसे पढ़ पाना सबके वश की बात नहीं है. कहा जाता है कि हमारे जीवन में जो कुछ भी हमें जन्म के समय मिलता है वो पूर्वजन्म में किए गए कर्मों पर आधारित होता है. इस कारण से लोगों की किस्मत में अंतर होता है. भाग्य की लकीरों को हथेली में पढ़कर अपने भविष्य से जुड़ी काफी बातों को जाना जा सकता है. गुरु पर्वत, इंडेक्स फिंगर (तर्जनी उंगली) के नीचे स्थित होता है. हस्तरेखा ज्योतिष के अनुसार, इस पर्वत से व्यक्ति की महत्वाकांक्षा, नेतृत्व क्षमता और भाग्य संबंधी बातें मालूम की जा सकती है. सभी लोगों की हथेली में पर्वत क्षेत्रों की स्थिति अलग-अलग होती है.

आइए जानते हैं इससे जुड़ी हुई कुछ खास बातें….

1. यदि गुरु पर्वत पर आड़ी रेखाएं या रेखाओं के जाल का निशान दिखाई देता है तो ये अशुभ होता है. इससे गुरु पर्वत के शुभ फल भी कम हो जाते हैं.

2. गुरु पर्वत पर तारे का निशान हो या रेखाओं से बने त्रिकोण या त्रिशूल का चिह्न दिखाई देता है तो व्यक्ति अच्छा बॉस बन सकता है.

3. यदि गुरु पर्वत पर खड़ी रेखाएं होती हैं तो ये शुभ फल देती है. इन रेखाओं के कारण व्यक्ति अच्छा प्रबंधक भी बन सकता है.

4. गुरु पर्वत पर कोई जाली या धब्बा हो तो ये व्यक्ति की कमजोर नेतृत्व क्षमता की निशानी है.

5. जिन लोगों की हथेली में गुरु पर्वत उभरा हुआ होता है और उस पर खड़ी रेखाएं भी होती हैं तो वे लोग धर्म के कार्यों में लगे रहते हैं. इन्हें भाग्य का भी साथ मिलता है.

6. यदि गुरु पर्वत ज्यादा ही उभरा दिखाई दे तो ऐसे लोग धर्म के मामले में कट्टरपंथी भी हो सकते हैं.

7. ज्यादा उभरा हुआ गुरु पर्वत शुभ नहीं होता है. इसके प्रभाव से व्यक्ति अहंकारी भी हो जाता है और दूसरों को अधिक महत्व नहीं देता है.

8. सामान्य स्थिति तक उभरा हुआ गुरु पर्वत व्यक्ति को संवेदनशील और विनम्र बनाता है. ऐसे लोगों दूसरों के सुख के लिए भी काम करते हैं.

9. यदि गुरु पर्वत पर गड्ढा दिखाई देता है तो व्यक्ति भाग्य का साथ प्राप्त नहीं कर पाता है. साथ ही, ऐसे लोग दूसरों के अधीन रहकर ही काम करते हैं. पर्वत क्षेत्रों पर गड्ढा हो तो पर्वत के सभी शुभ लक्षण खत्म हो जाते हैं.

Share

Recent Posts