रास्ते में दिखे शवयात्रा तो जरूर करें ये काम !

अगर जीवन मिला है तो एक दिन मृत्यु भी जरूर आएगी। मृत्यु एक अटल सत्य है जिसे कोई भी नहीं टाल सकता है। अगर आपने धरती पर जन्म लिया है तो आपकी मृत्यु भी निश्चित है। कहते हैं कि जिस दिन हम जन्म लेते हैं उसी दिन हमारी मृत्यु की तिथि भी निश्चित हो जाती है। इस संसार में जन्म लेने वाला हर प्राणी नश्वर है और उसका नाश जरूर होगा। ऐसा कोई भी जीव नहीं है जो अमर हो और जीवन एवं मृत्यु के बंधन से मुक्त हो। Shav Yatra Me Jarur Karein Ye Kaam

शवयात्रा की प्रथा :

हर धर्म के लोगों में मृत्यु के बाद शवयात्रा निकाली जाती है और ये एक पारंपरिक प्रथा है जो सदियों से चली आ रही है। अकाल मृत्यु हो या फिर व्यक्ति अपनी आयु से मृत्यु को प्राप्त हो, शवयात्रा को जरूर निकाली जाती है और कहा जाता है कि इससे आत्मा को शांति मिलती है।

Read : मंगलवार के दिन नहीं करने चाहिए ये काम

मनवांछित फल दे सकती है शवयात्रा :

आपको जानकर हैरानी होगी कि शवयात्रा से आप या कोई भी व्यक्ति मनवांछित फल पा सकता है। इसके लिए बस आपको कुछ आसान सी चीज़ें करनी होंगीं जिनके बाद आप मृत शरीर से भी अपनी कामना की पूर्ति करवा सकते हैं। ये कोई अनैतिक तरीका नहीं है बल्कि शास्त्रों में भी इसका उल्लेख मिलता है।

शवयात्रा दिखे तो क्या करें काम :

अगर आपको कहीं शवयात्रा दिखाई पड़ती है तो उसे गलती से भी अनदेखा ना करें। उस समय वहां रूक जाएं और अपने दोनों हाथों को जोड़कर प्रणाम करें। जिस भगवान या देवी-देवता को आप मानते हैं उनका नाम स्मरण करें। कहा जाता है कि शवयात्रा को देखकर शिव का नाम लेना चाहिए। इससे आपका दिन शुभ रहता है।

शवयात्रा निकलते हुए दिख जाए तो उसी समय रूक कर मृत्तात्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना करने पर आपको अपने दुखों से मुक्ति मिल सकती है। इस दौरान दो मिनट का मौन भी धारण कर सकते हैं। ऐसा करने से शरीर का त्याग कर चुकी आत्मा को शांति मिलती है।

अगर आप समय के अभाव के कारण किसी परिचित या अनजान व्यक्ति की शवयात्रा में सम्मिलित नहीं हो सकते हैं तो जब अंतिम यात्रा निकल रही हो तो उस समय रूक जाएं। पहले अंतिम यात्रा को निकलने दें आर उसे रास्ता दें। कभी भी अंतिम यात्रा के रस्ते में नहीं आना चाहिए।

ये बात तो सभी जानते हैं कि जब भी किसी की शवयात्रा दिखाई दे तो मन ही मन राम का नाम जपना चाहिए। श्रीरामचरित मानस के अनुसार मृत्यु के पश्चात्आत्मा भगवान शिव में विलीन हो जाती है। तो अब जब कभी भी आपको शवयात्रा दिखे तो भगवान शिव का नाम लें।

अगर आप किसी वाहन पर हैं और शवयात्रा निकल रही है तो उस समय हॉर्न ना बजाएं और ना ही किसी प्रकार का शोर करें। इसे मृत व्यक्ति का अपमान समझ जाता है और कम से कम किसी व्यक्ति के अंतिम समय में तो आप उसे आदर और सम्मान दे ही सकते हैं।

Read : पितृ इस तरह से देते है संकेत की वे आप पर प्रसन्न है या नाराज

दुखों का हो सकता है अंत :

शास्त्रों की मानें तो अगर अगर आप शवयात्रा के दौरान मृत्तात्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते हैं और अपने ईष्ट देव का नाम लेते हैं तो इससे आपके सभी दुख और कष्ट भी उस मृत शरीर के साथ नष्ट हो जाते हैं। वह मृत शरीर आपके अशुभ लक्षणों को भी अपने साथ ले जाती है।

ब्राह्मण के शव से मिलता है फल :

जी हां, ये बात सच है कि किसी ब्राह्मण के शव को कंधा देने से व्यक्ति को अपने एक कदम पर एक यज्ञ पुण्य का फल मिलता है और केवल एक बार पानी में डुबकी लगाने से उसके सारे पाप धुल जाते हैं। लेकिन अगर कोई अन्य ब्राह्मण अपने किसी स्वार्थ सिद्धि के लिए किसी ब्राह्मण के मृत शरीर को कंधा देता है तो वह अगले दस दिनों तक अशुद्ध हो जाता है और इन दिनों में वह कोई भी धार्मिक कार्य संपन्न नहीं कर सकता है और ना किसी शुभ कार्य में शामिल हो सकता है। शास्त्रों में यही नियम बनाए गए हैं।

अंतिम यात्रा में सफ़ेद रंग का महत्त्व :

कहते हैं कि सफेद रंग सबसे अधिक पवित्र और सात्विक होता है और इसी वजह से अंतिम यात्रा के दौरान मृत शरीर को सफेद रंग के कपड़े में लपेटा जाता है। इसके अलावा मरने के बाद व्यक्ति के जीवन से सभी रंग मिट जाते हैं और इसलिए भी उसे सफेद रंग के कपड़े में लपेटा जाता है। इसी रंग के साथ मृतात्मा इस दुनिया से विदा लेती है।

शवयात्रा के नियम :

  • ब्रह्मचर्य का पालन करने वाला व्यक्ति अपने वर्ण के किसी भी व्यक्ति के मृत शरीर की अर्थी को कंधा नहीं दे सकता है और ना ही किसी अन्य वर्ण के व्यक्ति की शव यात्रा में शामिल हो सकता है। वह केवल अपने माता-पिता और गुरुओं की अर्थी को कंधा दे सकता है। अगर वह किसी ऐसे व्यक्ति की अर्थी को कंधा देता है तो इससे उसका ब्रहमचर्य खंडित हो जाता है।
  • किसी भी वर्ण के व्यक्ति के शव को ले जाते समय आपके मार्ग में गांव अवश्य पड़ना चाहिए।
  • अगर किसी उच्च वर्ग के व्यक्ति के अंतिम संस्कार में कोई शूद्र व्यक्ति लकड़ी या किसी अन्य सामग्री को हाथ लगाता है तो इससे मृत्तात्मा प्रेत योनि में हमेशा भटकती रहती है।
  • शवयात्रा के दौरान आप इन कार्यों को करके और इन नियमों का पालन कर अपने जीवन से सभी कष्टों को दूर कर सकते हैं।
Share

Recent Posts

कार के अन्दर भूल गये है चाबी, तो इन तरीकों से खोल सकते हैं दरवाजा

अगर कार की चाबी कहीं गुम हो गई है और आपके कार का दरवाजा लॉक हो गया है, या फिर… Read More

October 8, 2019

यदि आप भी प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोल कर करना चाहते हैं कमाई, तो करें यह काम

यदि आपको भी लोगों की मदद के साथ-साथ खुद का बिजनेस भी करना है तो यह आपके लिए एक अच्‍छा… Read More

October 6, 2019

विष्णुपुराण के अनुसार घर आए मेहमान से भूल कर भी नहीं पूछनी चाहिए ये 3 बातें

अगर हम प्राचीन समय की बात करे, तो भारत में प्राचीनकाल से ही नियमो और रीती रिवाजो का पालन किया… Read More

October 2, 2019

IRCTC का ऐलान, अगर लेट हुई ये ट्रेन तो यात्रियों को मिलेंगे पैसे वापस

क्या आपने कभी सुना है कि ट्रेन लेट होने पर आपको आपका पैसा वापस मिल सकता है. नहीं सुना होगा..… Read More

October 2, 2019

28 सितंबर को सर्वपितृ अमावस्या, ऐसे करें पितरों का श्राद्ध

श्राद्ध की सभी तिथियों में अमावस्या को पड़ने वाली श्राद्ध का तिथि का विशेष महत्व होता है। आश्विन माह की… Read More

September 21, 2019

हनुमानजी का एक ऐसा दरबार जहां पैर रखते ही मिट जाते है सारे दुःख दर्द

भारत देश में रहस्य भरे पड़े हैं। कोई भी क्षेत्र इन रहस्यों से अछूता नहीं है। कुछ तो ऐसे हैं… Read More

September 5, 2019