श्रावण मास का महत्व और श्रावण मास में किए जाने वाले व्रत

0
26

Shravan Maas Ka Mahatva : श्रावण मास भगवान शिव को समर्पित है। इस माह अवधि ( 17 जुलाई 2019 से गुरुवार 15 अगस्त 2019 ) में पूजन करने से भगवान शिव प्रसन्न होकर शुभ फल प्रदान करते है। भगवान शिव के भक्त इस माह में सोमवार के व्रतों का पलन करते है। कुछ लोग इस माह उपवास रखते हैं और भगवान शिव को प्रसाद भी चढ़ाते है। श्रावण मास में बड़ी संख्या में लोग विभिन्न पूजाएं कराते हैं।

Read : रास्ते में दिखे शवयात्रा तो जरूर करें ये काम

भगवान शिव और पार्वती की कथा

श्रावण मास के महत्व को लेकर एक कथा प्रचलित है। कथा के अनुसार दक्ष की बेटी सती ने अपने पति के सम्मान के लिए अपना जीवन बलिदान कर दिया। पार्वती ने पुनर्जन्म लिया और इस बार हिमालय के यहां पुत्री रुप में जन्म लिया। पार्वती भगवान शिव से विवाह करना चाहती थी। यही कारण है कि श्रावण मास में तपस्या व साधना का अपना विशेष महत्व है। भगवान शिव पार्वती की भक्ति से प्रसन्न हुई और उनकी कामना पूर्ण हुई। भगवान शिव को श्रावण मास बहुत पसंद है, क्योंकि इस माह में भगवान शिव को अपनी अर्धांगिनी देवी पार्वती फिर से प्राप्त हुई थी।

समुद्र मंथन से जुड़ी कथा

Shravan Maas Ka Mahatva
Shravan Maas Ka Mahatva

शिव ने इस महीने के दौरान जहर का सेवन किया था, जब समुद्र से जहर निकलता था जबकि देवताओं और राक्षसों द्वारा मंथन किया जा रहा था। समझ यह थी कि समुद्र मंथन के दौरान जो कुछ भी निकलेगा वह देवताओं और राक्षसों के बीच समान रूप से साझा किया जाएगा लेकिन उनमें से कोई भी जहर को स्वीकार करने के लिए सहमत नहीं था। देवताओं और राक्षसों ने इसे फेंकने का फैसला किया, लेकिन शिव ने उन्हें ऐसा करने से रोक दिया कि अगर जहर फेंक दिया गया तो दुनिया नष्ट हो जाएगी। इसलिए, अंततः दुनिया को बचाने के लिए, शिव ने स्वयं इसका सेवन किया।

Read : भगवान की आरती में क्यों होता है कपूर का प्रयोग

शिव द्वारा विष को गले में धारण किया गया था, जैसे ही वह पेट में जाता है वह मर जाता है और यदि इसे बाहर फेंक दिया जाता है, तो ब्रह्मांड नष्ट हो जाएगा। इसलिए उसे अपने गले में धारण करना पड़ा और इस वजह से उसकी गर्दन नीले रंग में बदल गई। तभी से उन्हें “नीलकंठ” नाम से भी बुलाया जाता है जिसका अर्थ है नीला कंठ। तत्पश्चात सभी देवताओं ने विष के प्रभाव को कम करने के लिए भगवान शिव को गंगाजल (गंगा नदी का जल) अर्पित करना शुरू किया।

चूंकि, श्रावण मास में ऐसा होता है, शिव भक्त इस महीने में भगवान शिव को गंगाजल भी चढ़ाते हैं। भगवान शिव, जिन्होंने अपने गले में विष धारण किया था, यह दर्शाता है कि हमें इन नकारात्मकताओं को दूसरों पर नहीं थोपना चाहिए और न ही उन्हें हमारे भीतर गहराई तक जाने देना चाहिए। हमें कुछ समय के लिए उन्हें अपने भीतर एक सुरक्षित जगह पर रखना चाहिए कि वे न तो हमें प्रभावित करते हैं और न ही दूसरों को नष्ट करते हैं।

श्रावण मास का महत्व

श्रावण मास में भगवान शिव का पूजन, दर्शन, अभिषेक करने के साथ साथ रात्रि भर भगवान शिव के भजनों के साथ जागरण किया जाता है। यह सब कार्य भगवान शिव की विशेष कॄपया प्राप्ति के लिए किया जाता है। इसके अतिरिक्त इस माह में ऐसे हर कार्य से बचा जाता है, जो धर्म शास्त्रों के अनुकूल न हो। तामसिक व्यवहार और तामसिक वस्तुओं का सेवन इस समय में पूर्णत: वर्जित है। ग्रहों को प्रसन्न करने के उपाय कार्य भी इस अवधि में किए जाते है।

Read : सुहागिन महिलाओं को इस दिन नहीं धोना चाहिए बाल

भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए धार्मिक क्रियाओं के अतिरिक्त इस माह में सोमवार के व्रत का पालन किया जाता है। सोमवार के दिन के स्वामी चंद्र देव है और चंद्र देव को भगवान शिव ने अपने सिर पर धारण किया है। ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव का पूजन करने से आध्यात्मिक मनोरथ सिद्ध होते हैं और भक्तों का मन अनुशासित होता है। यही वजह है कि भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए सोमवार के दिन विशेष पूजा की जाती है।

यह माना जाता है कि श्रावण मास में सोमवार के दिन शिवलिंग पूजन करने से भगवान शिव की विशेष कॄपा प्राप्त होती है। भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए इस दिन पुरुष, महिलाएं और अविवाहित लड़कियां इस दिन का उपवास करती है। भारत के उत्तरी राज्यों जैसे – राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और बिहार आदि राज्यों में इस मास का विशेष महत्व है।

Shravan Maas Ka Mahatva
Shravan Maas Ka Mahatva

श्रावण मास 2019 में आने वाले अन्य शुभ दिन और त्यौहार इस प्रकार हैं-

1 अगस्त का दिन – हरियाली अमावस्या
3 अगस्त का दिन – हरियाली तीज
5 अगस्त – नाग पंचमी
15 अगस्त – रक्षा बंधन
24 अगस्त का दिन – कृष्ण जन्माष्टमी

श्रावण मास में क्या करें ?

इस महीने के दौरान कई आध्यात्मिक कार्य किए जाते है। लेकिन विवाह, गृहप्रवेश आदि इस महीने के दौरान नहीं किए जाते हैं क्योंकि यह बहुत शुभ नहीं माना जाता है। कुछ लोग इस महीने के दौरान कोई भी नई चीज़ नहीं खरीदते हैं जैसे नया घर, नया वाहन, नए कपड़े आदि।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here