क्या आप भी चटकाते हैं उंगलियां तो हो जाइए सावधान, वरना पड़ जाएगा भारी

0
46

बहुत से व्यक्ति जाने अनजाने में ऐसी बहुत सी गलतियां कर बैठते हैं जिसकी वजह से आने वाले समय में उनको पछताना पड़ता है इनमें से बहुत सी गलतियां ऐसी होती है जिसकी वजह से हमारे शरीर पर इनका बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ता है और इन्हीं गलतियों में से एक गलती है अपनी उंगलियां चटकाना। Side Effects of Cracking Knuckles

ऐसे बहुत से लोग हैं जिनको अपनी उंगलियां चटकाना बड़ा ही अच्छा लगता है और उनको अपनी उंगलियों को चटकाने में बड़ा आनंद भी महसूस होता है कुछ व्यक्ति तो दिन में एक या दो बार अपनी उंगलियां चटकाते हैं

ये भी पढ़िए : सावधान ! हार्ट अटैक आने से महीने भर पहले ही शरीर देता है ये संकेत

कुछ लोग तो ऐसे होते हैं जो थोड़ी थोड़ी देर बाद ही जोर-जोर से अपनी उंगलियों को चटकाते रहते हैं परंतु आप लोगों ने यह कभी सोचा है कि बार-बार इन उंगलियों को चटकाने से हमको कितना बड़ा नुकसान होता है शायद इस बात की जानकारी उन लोगों को नहीं है।

जब भी हम अपने हाथ-पैर या फिर उंगलियां चलाते हैं तो वे आपस में रगड़ ना खाए, या फिर घर्षण से बचाने का काम इस ‘सिनोवाइल’ नामक पदार्थ का होता है. अब बात करें हड्डियों के चटकने की तो ये तब चटकती हैं जब इन हड्डियों के बीच कार्बन डाई ऑक्साइड आ जाती है.

Side Effects of Cracking Knuckles

जब ‘सिनोवाइल’ में कार्बन डाई ऑक्साइड मिलती है तो वहां पर बुलबुले बन जाते हैं. तो जब हम अपनी हड्डियां मोड़ते हैं तो इन बुलबुलों के फूटने से आवाज आती है और हम समझ जाते हैं कि हमारी हड्डियां चटक गयी हैं.

आप और हम जब उंगलियां चटकाते हैं तो एक बार चटकने के बाद फिर आवाज नहीं आती है. उसका कारण यह है कि जब एक बार उंगलियां चटक जाती हैं तो दोबारा ‘सिनोवाइल’ पदार्थ में कार्बन डाई ऑक्साइड को मिलकर बुलबुले बनाने में लगभग 15-30 मिनट लग जाते हैं.

यही कारण है कि एक बार उंगलियां चटकाने के बाद फिर तुरन्त दोबारा चटकाने पर आवाज नहीं आती है

ये भी पढ़िए : शरीर के इन स्थानों पर दबाने से ही ठीक हो जाते हैं अनेक रोग

नहीं चटकानी चाहिए उंगलियां :

अब बात करें कि इसका नुकसान क्या है और क्यों हमें उंगलियां नहीं चटकानी चाहिए तो उसका कारण यह है कि जब बार-बार हम उंगलियां चटकाते हैं तो उनके बीच में जो ‘सिनोवाइल’ पदार्थ होता है वह कम होने लगता है.

सबसे खतरनाक बात यह है कि अगर यह ‘सिनोवाइल’ नामक पदार्थ खत्म हो जाए तो हमें ‘गठिया’ जैसी बीमारी भी हो सकती है. इसके साथ-साथ हड्डियों की आपस में पकड़ भी कमजोर हो जाती है.

यदि हम डॉक्टरों के अनुसार देखे तो उंगलियां चटकाना ना ही अच्छा है और ना ही बुरा है परंतु जो व्यक्ति दिन में कई बार अपनी उंगलियों को चटकाते हैं उनको जोड़ों से संबंधित बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है

Side Effects of Cracking Knuckles
Side Effects of Cracking Knuckles

उनके जोड़ों में दर्द जैसी समस्या उत्पन्न हो जाती है क्योंकि बहुत से अध्ययनों में इस बात का दावा किया गया है कि यदि उंगलियां चटकाई जाए तो इससे जोड़ों पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

आज हम आपको इस लेख के माध्यम से कुछ ऐसी जानकारियां बताने जा रहे हैं जिसको जानने के बाद आप अपनी उंगलियां कभी भी नहीं चटकायेंगें। आइए जानते हैं इसके बारे में

ये होती है बीमारी :

यदि व्यक्ति अपनी उंगलियां बार-बार चटकाता है तो उसकी इस आदत की वजह से उसको गठिया जैसे दर्दनाक बीमारी का शिकार होना पड़ सकता है इतना ही नहीं आपकी जानकारी के लिए बता दे कि ब्रिटिश के एक अंग्रेजी अखबार के रिपोर्ट के अनुसार

ये भी पढ़िए : इन घरेलू उपायों से अपने-आप निकल जाएगी किडनी की पथरी

उंगलियों को चटकाने की आदत गठिया जैसी बीमारी का सबब बन सकती है क्योंकि उंगलियों की हड्डियां लिगामेंट से एक दूसरे से जुड़ी हुई होती है परंतु जब भी अपनी उंगलियों को चटकाते हैं तब इन हड्डियों में दरार आती है।

आपको बता दें कि उंगलियों की हड्डियां आपस में लिगामेंट से जुड़ी हुई होती है और हम जब बार-बार अपनी उंगलियों को चटकाते हैं तो उंगलियों के बीच में होने वाला लिक्विड कम होने लगता है और अगर यह लिक्विड समाप्त हो जाए तो हमें गठिया जैसी गंभीर बीमारी का सामना करना पड़ सकता है।

यदि कोई व्यक्ति अपनी उंगलियां बार-बार चटकाता है तो इससे उसकी हड्डियां बार-बार दूसरी हड्डी से खींचती है और अगर जोड़ों को बार-बार खींचा जाए तो इससे हमारी हड्डियों की पकड़ भी कमजोर बन जाती है जिसकी वजह से हमारी उंगली टूट भी जाती है।

Keywords : Side Effects of Cracking Knuckles, Clicking Fingers, Cracking Knuckles, How to Stop Cracking Knuckles, Cracking Joints, Cracking Knuckles Side Effects, Side Effects of Cracking Fingers,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here