प्रवासियों को घर भेजने में एक बस का आता है कितना खर्च, सोनू की जुबानी

0
117

बॉलीवुड ऐक्‍टर सोनू सूद इन दिनों गरीबों के मसीहा बने हुए हैं। भले ही उन्‍होंने फिल्‍मों में तमाम विलन के रोल्‍स निभाए हों लेकिन उन्‍होंने कोरोना के संकट की घड़ी में साबित कर दिया है कि वह रियल लाइफ हीरो हैं। वह लगातार प्रवासी मजदूरों को घर भेज रहे हैं और अब उन्‍होंने बताया कि एक बस भेजने में कितना खर्च आता है। Sonu How Much Pay Bus Rent

ये भी पढ़िए : इस शहर में बनने जा रही है सोनू सूद की मूर्ति, सोनू ने दिया ये जवाब

आपकी जानकारी के लिए बता दें शुरुआत में सोनू ने कोरोना वायरस रिलीफ फंड में योगदान किया और कोरोना के मरीजों के ट्रीटमेंट के लिए अपना जुहू स्थित होटल मेडिकल स्‍टाफ को ऑफर किया। फिर हालात को और बिगड़ता देख और मजदूरों को सड़कों पर पैदल चलता देखकर उन्‍होंने जिम्‍मेदारी ली कि वह बसों से उन्‍हें घर पहुंचाएंगे।

हजारों की संख्‍या में लोगों के मेसेज :

सोनू ने राज्‍य सरकारों से परमिशन लेकर बसों का इंतजाम किया और अपनी टीम के साथ मिलकर प्रवासियों को घर भिजवाने का काम शुरू किया जो अभी भी जारी है। उन्‍होंने एक वीडियो शेयर कर बताया कि उन्‍हें कम समय में ही हजारों की संख्‍या में लोगों के मेसेज मिले हैं।

Sonu How Much Pay Bus Rent
Sonu How Much Pay Bus Rent

रात को सो नहीं पाते थे सोनू :

हाल ही में एक इंटरव्‍यू के दौरान जब सोनू से पूछा गया कि लोगो की मदद के बारे में उन्‍होंने कैसे सोचा तो ऐक्‍टर ने बताया कि प्रवासियों की दुर्दशा के बारे में सोचकर रात को सो नहीं पाते थे। इसी के बाद उन्‍होंने उनकी मदद करने का फैसला किया। उन्‍होंने कहा कि वह जब तक हर एक प्रवासी को घर नहीं पहुंचा देंगे, अपना काम जारी रखेंगे।

कितना आता है एक बस का खर्च? :

यह पूछने पर कि प्रवासियों को घर भेजने में एक बस का कितना खर्च आता है तो सोनू ने बताया कि इसमें 1.8 लाख से 2 लाख रुपये तक का खर्च आता है। यह इस पर भी निर्भर करता है कि प्रवासी को कहां जाना है।

ये भी पढ़िए : कोरोना में जा रहे हैं ऑफिस तो भूलकर भी ना करें गलतियाँ, बरतें सावधानियां

अरेंज करनी पड़ती हैं ज्‍यादा बसें :

यही नहीं, चूंकि सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियम को भी फॉलो करना है, ऐसे में एक बस पूरी तरह भरी नहीं जाती है और इस वजह से ज्‍यादा से ज्‍यादा बसें अरेंज करनी पड़ती हैं। सोनू ने कहा कि अब चीजें सही हो रही हैं। दूसरे लोग भी इस काम में मदद के लिए आगे आ रहे हैं।

बच्‍चे का नाम रखा सोनू सूद :

इंटरव्‍यू के दौरान ही सोनू ने बताया कि एक प्रवासी महिला उस वक्‍त प्रेग्‍नेंट थी जब उन्‍होंने उसके लिए घर जाने का इंतजाम किया। बाद में महिला ने बच्‍चे को जन्‍म दिया तो उसने बच्‍चे का नाम सोनू सूद रखा।

ये भी पढ़िए : जानिये कैसे महिलाओं के लिए रामबाण है पत्ता गोभी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here