जानिए कोरोना वायरस के लक्षण और बचाव के तरीके

0
33

कोरोना वायरस से हड़कंप मचा हुआ है। अलग-अलग देशों में इससे निपटने की सभी कोशिशें की जा रही हैं। चीन में महामारी की शक्‍ल ले चुका कोरोना वायरस अब तक दुनिया के 19 देशों में फैल चुका है। Symptoms and Treatment of Corona Virus

वहीं पूरी दुनिया को इसकी पहली वैक्‍सीन का इंतजार है। पूरी दुनिया इसकी आहट से डरी हुई है। चीन में अब तक इसके 5974 मरीजों की पुष्टि सरकार कर चुकी है।

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इसके 1239 मरीजों की हालत गंभीर है जबकि 132 मरीजों की मौत हो चुकी है।

ये भी पढ़िए : दिखने लगें ये लक्षण तो समझों आपका लीवर हो गया है खराब

चीन के अलावा कई दूसरे देशों ने इससे बचाव के उपाय शुरू कर दिए हैं। इसके तहत अंतरराष्‍ट्रीय हवाई अडडों पर थर्मल स्‍कैनर लगाए हैं। ऐसा करने वालों में भारत, जर्मनी, अमेरिका, वियतनाम, दक्षिण कोरिया, कंबोडिया, साइप्रस, इंडोनेशिया, यूएई और सिंगापुर समेत कई अन्‍य देश शामिल हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय और मानव संसाधन विकास मंत्रालय भारत सरकार द्वारा जारी डिजिटल निर्देश में लोगों से सावधानी बरतने की गुजारिश की है और अपील की है कि इस संदेश को अपने सभी प्रियजनों को सोशल मिडिया या मोबाइल से इस संबंध में जानकारी से अवगत करावें।

Symptoms and Treatment of Corona Virus
Symptoms and Treatment of Corona Virus

आखिर क्या है कोरोना वायरस :

कोरोना वायरस एक ऐसा वायरस है जो जानवरों और इंसानों को बीमार कर सकता है। ये एक RNA वायरस है, जिसका मतलब ये है कि यह एक शरीर के अंदर कोशिकाओं में टूट जाता है और उनका उपयोग खुद को पुन: उत्पन्न करने के लिए करता है।

कोरोना वायरस (सीओवी) का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है.

इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया है. इस वायरस का संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान में शुरू हुआ था.

ये भी पढ़िए : लकवा की बीमारी को जड़ से ख़त्म करने का पक्का घरेलू नुस्खा

डब्लूएचओ के मुताबिक, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं. अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका नहीं बना है.

कैसे फैलता है ये वायरस :

ये बीमारी सिर्फ खांसी और छींक के ज़रिए लोगों में फैल सकती है, इसका मतलब ये वायरस बेहद आसानी से किसी को भी संक्रामित कर सकता है।

इसके अलावा यह लार के ज़रिए निकट संपर्क, चुंबन या फिर बर्तन शेयर करने से भी फैल सकता है। क्योंकि यह फेफड़ों को संक्रमित करता है,

इसलिए खांसते वक्त मुंह से निकले वाली बूंदें भी सामने मौजूद व्यक्ति को संक्रमित कर सकती हैं।

कहां से शुरू हुआ वायरस :

Symptoms and Treatment of Corona Virus
Symptoms and Treatment of Corona Virus

यह वायरस सबसे पहले चीन के वुहान शहर से फैलना शुरू हुआ। इसके बाद इससे पीड़ित मरीज थाईलैंड, सिंगापुर, जापान में भी मिल रहे हैं।

हाल ही में इंग्लैंड में भी एक परिवार के इस वायरस की चपेट में आने की जानकारी सामने आई है।

क्या हैं बीमारी के लक्षण? :

कोरोना वायरस के लक्षण स्वाइन फ्लू जैसे हैं। इसके संक्रमण के फलस्वरूप बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना सिर में तेज दर्द, निमोनिया, ब्रॉन्काइटिस और गले में खराश जैसी समस्या उत्पन्न होती हैं.

यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है. इसलिए इसे लेकर बहुत सावधानी बरती जा रही है. यह वायरस दिसंबर में सबसे पहले चीन में पकड़ में आया था.

इसके दूसरे देशों में पहुंच जाने की आशंका जताई जा रही है. लोगों से अपील है इन लक्षणों को ध्यान में रखें

ये भी पढ़िए : दिल की ब्लोकेज के लिए पीपल का पत्ता राम बाण ईलाज

  • तेज बुखार
  • सिर में तेज दर्द
  • खांसी और कफ
  • गला में खराब
  • नाक का बहना
  • निमोनिया
  • थकान महसूस होना
  • सांस लेने में परेशानी

कोरोना वायरस के मरीजों में जुकाम, खांसी, गले में दर्द, सांस लेने में दिक्कत, बुखार जैसे शुरुआती लक्षण देखे जाते हैं।

इसके बाद ये लक्षण निमोनिया में बदल जाते हैं और किडनी को नुकसान पहुंचाते हैं। फेफड़े में गंभीर किस्म का संक्रमण हो जाता है।

जरूरी सावधानियां :

Symptoms and Treatment of Corona Virus
Symptoms and Treatment of Corona Virus

सामान्य सर्दी जुकाम और बुखार की तरह होते हैं लेकिन यदि आप मांस मछली और मांसाहार ज्यादा खाते हैं या पॉल्ट्री, मीट फॉर्म के आस पास रहते हैं तो इन लक्षणों में बिलकुल हलके में मत लीजिए।

इस सामान्य से दिखने वाले लक्षणों में ही कोरोना वायरस हो सकता है जो जानलेवा है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोरोना वायरस से बचने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं. इनके मुताबिक आपको इन सावधानियों को रखना चाहिए

  • अपने हाथ साबुन-पानी या अल्कोहल युक्त हैंड रब से साफ करें।
  • खांसते या छींकते हुए अपनी नाक और मुंह को टिश्यू या मुड़ी हुई कोहनी से ढकें।
  • जिन्हें सर्दी या फ्लू जैसे लक्षण हों उनके साथ करीबी संपर्क बनाने से बचें।
  • मीट व अंडों को खाने से पहले अच्छे से पकाएं।
  • जंगली और खेतों में रहने वाले जानवरों के साथ असुरक्षित संपर्क न बनाएं।
  • संभव हो सके तो स्कूल या अस्पताल जाते समय मास्क का प्रयोग करें।
  • संभव हो तो मांसाहार को कुछ समय के लिए छोड़ दें, अगर आप खुद मीट पकाते हैं तो मांस मछली और अंडों को भी बहुत अच्छी तरह पकाकर ही खाएं।
  • उन इलाकों से दूर रहें जहां पॉल्ट्री फार्म औऱ मीट फार्म हैं।
  • भीड़भाड़ वाली जगह पर न जाएं, खास तौर पर चीन से सफर कर लौटे व्यक्ति से दूर रहें।
  • सब्जी और फलों को खाने से पहले अच्छी तरह धोएं।
  • अपने हाथ और उंगलियों से आंख, नाक और मुंह को बार-बार न छूएं
  • जिन देशों या जगहों पर इस बीमारी का प्रकोप फैला है, वहां यात्रा करने से बचें। सार्वजनिक स्थानों, सार्वजनिक यातायात के साधनों में कुछ भी छूने या किसी से हाथ मिलाने से बचें।

ये भी पढ़िए : ये उपाय स्किन की खुजली और चर्म रोग को जड़ से ख़त्म कर देगा

क्‍या होता है थर्मल स्‍कैनर :

थर्मल स्‍कैनर एक ऐसा डिवाइस है जो शरीर के तापमान को दर्ज कर एक थर्मल इमेज तैयार करता है। इसकी स्‍क्रीन पर जो इमेज उभरकर आती है उसमें मौजूद अलग-अलग रंग शरीर ही नहीं उसके आस-पास की चीजों के तापमान को दर्शाती है।

इस डिवाइस पर मौजूद रंगों के अलावा कुछ स्‍कैनर में बाकायदा शरीर का तापमान भी लिखा हुआ आता है।

वुहान समेत अन्‍य एयरपोर्ट पर मौजूद जो स्‍कैनर लगाए गए हैं उनमें दोनों ही तरह की व्‍यवस्‍था है। इतना ही नहीं किसी व्‍यक्ति के शरीर का तापमान सामान्‍य से अधिक होने पर यह स्‍कैनर बीप के माध्‍यम से सिग्‍नल देते हैं।

Symptoms and Treatment of Corona Virus
Symptoms and Treatment of Corona Virus

इसके बाद उक्‍त व्‍यक्ति को दूसरे यात्रियों से अलग कर उसकी जांच की जाती है और उसका ब्‍लड सैंपल लिया जाता है।

थर्मोग्राफिक कैमरा :

1929 में हंगरी के फिजीसिस्‍ट कालमान तिहांयी ने इंफ्रारेड सेंसिटिव नाइट विजन इलेक्‍ट्रॉनिक टेलिविजन कैमरे का अविष्‍कार किया था। इसको हवाई हमले से सुरक्षा के लिए तैयार किया गया था।

इसके बाद 1947 में अमेरिका में पहला थर्मोग्राफिक कैमरा तैयार किया गया था। इस तरह के कैमरे ठंडे और गरम खून में फर्क कर एक इमेज तैयार करते हैं।

ये भी पढ़िए : इन घरेलू उपायों से अपने-आप निकल जाएगी किडनी की पथरी

अपने नागरिकों को निकालने में लगे देश :

आपको बता दें कि वर्तमान में दुनिया के लिए खतरा बने कोरोना वायरस की जांच में यह तकनीक काफी कारगर है। इस तकनीक के जरिए रोगी को तो पहचानना आसान है ही साथ ही इसको बढ़ने से भी रोका जा सकता है।

चीन का वुहान शहर जहां इसका सबसे अधिक प्रकोप है वहां पर भारत समेत कई देशों के नागरिक शिक्षा समेत दूसरे कार्यों के लिए रह रहे हैं। वायरस के प्रकोप से इन्‍‍‍‍‍हें बचाने के लिए सभी देश अपने नागरिकों को बाहर निकालने के लिए तैयार हैं।

अमेरिका ने वुहान में मौजूद अपने 240 नागरिकों को जिसमें डिप्‍लोमेट भी शामिल हैं, को निकालना शुरू कर दिया है। सिंगापुर में इस वायरस के सात मरीज सामने आने के बाद यहां पर सेनिटाइजर और थर्मामीटर की खरीद में इजाफा देखने को मिला है।

Symptoms of Corona Virus

चीन की ही बात करें तो वुहान समेत दूसरी जगहों पर सभी स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों को इसके बचाव के लिए प्रोटेक्टिव सूट मुहैया करवाए गए हैं।

भारत में कोरोना की दस्तक :

आखिरकार चीनी कोरोना वायरस (Wuhan Corona virus) भारत में दाखिल हो ही गया. पिछले दो हफ्ते से लगातार निगरानी और जांच मुस्तैद रहने के बावजूद भारत में कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आ गया है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि केरल निवासी एक स्टूडेंट को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है. संक्रमण के लक्षण मिलने बाद ही इस छात्र को अस्पताल में दाखिल कराया गया है.

ये भी पढ़िए : इस खतरनाक कैंसर से जूझ रहे थे पर्रिकर, जानिये लक्षण और बचाव के तरीके

खबर लिखे जाने तक मरीज की हालत स्थिर है. हालांकि डाक्टरों ने उसे कड़ी निगरानी में रखा है. ये छात्र वुहान विश्वविद्यालय में पढ़ाई करता है. और हाल ही में भारत वापस लौटा है.

हेल्पलाइन नंबर :

भारत सरकार ने कोरोना वायरस को लेकर एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया है. कोरोना वायरस को लेकर जानकारी के लिए कोई भी नागरिक दिए गए नंबर पर कॉल कर सकता है.

स्वास्थ्य एंव परिवार कल्याण मंत्रालय ने भारत के लोगों के लिए एक हेल्पलाइन नंबर “+91-11-23978046” जारी किया है.

आप इस नंबर पर कॉल करके इस बीमारी से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. इससे पहले चीन में फंसे भारतीय छात्रों की मदद के लिए तीसरी हॉट लाइन शुरू की गई थी, जिसका नंबर +8618610952903 है. 

कोरोना वायरस के वुहान में तेजी से फैलने के बाद वहां फंसे भारतीय छात्रों की मदद के लिए पहले ही दो हॉट लाइन शुरू की गई थी. ये दोनों हॉट लाइन क्रमश: 8618612083629 और 8618612083617 है.

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी में खांसी-जुकाम से हैं परेशान तो आजमाइये ये घरेलू नुस्‍खे

Keywords : coronavirus, कोरोना वायरस, corona virus symptoms, Symptoms and treatment of corona virus, coronavirus precautions, Coronavirus Infection, thermal scanner to detect coronavirus, Symptoms of Corona Virus, coronavirus causes, coronavirus disease

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here