शिवपुराण के ये 5 रहस्य बचा सकते हैं जीवन की हर समस्या से.

0
2712

हर मनुष्य के जीवन में कभी न कभी ऐसा समय आता है जब उसे सही-गलत, तथ्य-मिथ्या में अंतर करना बहुत कठिन लगने लगता है. जीवन का वास्तविक अर्थ समझने के लिए वो किताबों, ज्ञानी व्यक्तियों आदि तरीकों का सहारा लेने लगता है. लेकिन जीवन का सबसे बड़ा सत्य तो ये है कि अपने-अपने अनुभव के आधार पर सभी के लिए जीवन का अर्थ भी अलग है. लेकिन जीवन से जुड़े कुछ ऐसे रहस्य हैं जिनके बारे में जानकर अपने जीवन को सरल बनाया जा सकता है. शिवपुराण में भगवान शिव ने देवी पार्वती को जीवन के 5 रहस्य बताए हैं जिन्हें जानकर कोई भी मनुष्य जीवन की हर दुविधा और समस्या से मुक्ति पा सकता है. आइए, जानते हैंं वो 5 रहस्य.

11. क्या है सबसे बड़ा धर्म और सबसे बड़ा पाप

देवी पार्वती के पूछने पर भगवान शिव ने उन्हें मनुष्य जीवन का सबसे बड़ा धर्म और अधर्म मानी जाने वाली बात के बारे में बताया है. भगवान शंकर कहते हैंं, ‘मनुष्य के लिए सबसे बड़ा धर्म है सत्य बोलना या सत्य का साथ देना और सबसे बड़ा अधर्म है असत्य बोलना या उसका साथ देना. इसलिए हर किसी को अपने मन, अपनी बातें और अपने कामों से हमेशा उन्हीं को शामिल करना चाहिए जिनमें सच्चाई हो क्योंकि इससे बड़ा कोई धर्म नहीं है. असत्य कहना या किसी भी तरह से झूठ का साथ देना मनुष्य की बर्बादी का कारण बन सकता है.

Back

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here