पेट और कमर की चर्बी कम करने के घरेलू उपाय

0
50

हेलो दोस्तों लॉकडाउन की वजह से आज हर कोई घर में ही है घर पर खाना खाने से इस बात का भी डर सता रहा है कहीं चर्बी ना चढ़ जाए तो आज हेल्थ सेक्शन में हम आपको बताने जा रहे हैं पेट और कमर से जुडी चर्बी के बारे में. कमर और पेट के आसपास जरूरत से ज्यादा चर्बी का जमना लोगों के लिए चिंता का विषय बनता जा रहा है Tips To Reduce Belly Fat

पेट की चर्बी दूसरों को ना सिर्फ देखने में खराब लगती है बल्कि यदि यह जरूरत से ज्यादा बढ़ जाए तो इससे कई तरह की बीमारियां होने का खतरा भी अधिक हो जाता है। पेट के चारों ओर जमा हो रही चर्बी के कारण ब्लड प्रेशर, हृदय रोग और शुगर जैसी बीमारियां हो सकती हैं।

पेट पर जमे अतिरिक्त फैट को कम करना थोड़ा मुश्किल जरूर है लेकिन नामुमकिन नहीं है। सही समय पर संतुलित आहार और व्यायाम कर आसानी से घर पर ही पेट और कमर की चर्बी को कम किया जा सकता है। क्या आप जानते हैं? मोटापे के भी दो प्रकार होते हैं, जी हां… कुछ लोग सिर से लेकर पांव तक मोटे होते हैं, कहने का मतलब उनका पूरा शरीर ही वजनदार और मोटापा से ग्रस्त होता हैं।

ये भी पढ़िए : जिम कर रहे हैं तो बिल्कुल भी न करें ये काम, वरना मोटापा बढ़ जाएगा

कैसे निकलता है पेट :-

जब हमारे पेट मे मेटाबलाज़िम का स्तर बढ़ने लगता है तब हमारे पेट पर चर्बी जमा होने लगती है या हमारा पेट निकलने लगता है। मेटाबॉलिज्म के स्लो डाउन होने की सबसे बड़ी वजह होती है आप खाना तो पूरा खा रहे हैं लेकिन वर्कआउट नहीं कर रहे हैं, इसके अलावा हमारी 8 घंटे नींद का पूरा ना होना भी पेट का फैट बढ़ाता है। रात की नींद अगर पूरी नहीं होगी तो आपका खाना डाइजेस्ट नहीं होगा तो आप का मेटाबॉलिज्म धीरे-धीरे स्लो होता जाएगा।

बेली फैट कम करने के उपाय अनेक हैं आपने टीवी पर पेट और कमर की चर्बी घटाने और मोटापा कम करने के एड यानी विज्ञापन जरूर देखें होगें। जिसमें खाने पीने से लेकर कई तरह की एक्सरसाइज या स्वेट स्लिम बेल्ट के बारे में दिखाया जाता है। लेकिन पेट और कमर की चर्बी कम करने के ये सारे उपाय काफी मंहगे होते हैं और कुछ सही से काम नहीं करते या किसी के साइड इफेक्ट्स होते हैं।

Tips To Reduce Belly Fat
Tips To Reduce Belly Fat

यह तो आपको पता है कि मोटापा दिन-ब-दिन बढ़ती एक समस्या बनती जा रही है। कमर और पेट कम कैसे करें इसे जानने से पहले हमें यह जानना होगा की आखिर पेट और कमर के आसपास चर्बी का जमाव क्यों होता है। इसलिए हम कमर और पेट कम करने के उपायों को जानने से पहले यह जान लेते हैं कि आखिर यह समस्या होती क्यों है और इसके मुख्य कारण क्या है।

पेट और कमर पर चर्बी जमा होने के कारण –

यदि कमर और पेट के आसपास थोड़ी मात्रा में चर्बी एकत्रित हो जाती है तो इससे कोई घाटा नहीं है, क्योंकि एक निश्चित मात्रा में जमा हुई चर्बी (वसा) हमारे शरीर के लिए कुशन की तरह कार्य करती है। जिससे हमारी हड्डियां सुरक्षित रहती हैं, साथ ही यह हमारे शरीर के अंदरूनी अंगों को भी सुरक्षा प्रदान करती है। लेकिन जब यही चर्बी जरूरत से ज्यादा बढ़ने लगती है तो कई बीमारियां हमें होने लगती हैं। इसलिए हम सबसे पहले इसी बात पर चर्चा करने वाले हैं कि आखिर हमारे शरीर में अतिरिक्त चर्बी के जमने के मुख्य कारण कौन से हैं।

1. खराब पाचन तंत्र :

जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती जाती है हमारा पाचन तंत्र धीरे-धीरे कमजोर होता जाता है, इससे हमारे शरीर में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिस्टम भी प्रभावित होने लगता है जिसके कारण पेट और कमर के आसपास चर्बी बढ़ने लगती है।

2. हार्मोनल असंतुलन :

पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं में हार्मोनल बदलाव अधिक देखे जाते हैं। महिलाओं के जीवन में ऐसी कई स्थितियां आती हैं जब उन्हें अपने शरीर में हार्मोन में बदलाव देखने को मिलते हैं। इस तरह के बदलाव मुख्यतः प्रेग्नेंसी के समय और किसी महिला के जीवनकाल के मध्य पड़ाव लगभग 40 साल के आसपास पहुंच चुकी महिलाओं में देखे जाते हैं।

इस समय उनके शरीर का वजन तेजी से बढ़ने लगता है और कमर और पेट के आसपास की चर्बी भी उतनी ही तेजी से जमा होने लगती है। यह स्थिति रजोनिवृत्ति के दौरान देखने को मिलती है जिसका कारण एस्ट्रोजन हार्मोन के स्तर में कमी या बढ़ोतरी मानी जाती है। यही कारण है कि महिलाओं में हार्मोनल असंतुलन के कारण कमर और पेट के आस-पास अतिरिक्त चर्बी जमा हो जाती है।

ये भी पढ़िए : काली मिर्च का गुनगुने पानी के साथ करें सेवन, एक साथ अनेक बीमारियों पर करते हैं राज

3. अधिक तनाव :

आज के समय में तनाव होना बड़ी ही आम बात है तनावग्रस्त व्यक्ति एक के बाद एक बहुत सारी बीमारियों से घिरता चला जाता है और उन्हें बीमारियों में से एक है चर्बी का बढ़ना जिसके कारण ही उसे और कई बीमारियां घेर लेती है। अधिक तनाव के कारण हमारे ब्लड में कॉर्टिसोल नामक हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है।

कोर्टिसोल हार्मोन शरीर में अतिरिक्त वसा को जमा करने का भी कारण हो सकता है, क्योंकि यह शरीर में बसा के स्तर को बढ़ा देता है, जिससे वसा कोशिकाएं बड़ी हो जाती है। इसलिए अधिक तनाव लेने के कारण व्यक्तियों में धीरे-धीरे पेट के आसपास और अन्य जगहों पर चर्बी एकत्रित होने लगती है।

अगर आपके खानपान की आदतें सही नहीं हैं तो तनाव और भी बुरा परिणाम दे सकता है। क्योंकि आमतौर पर लोग तनाव में होने पर कुछ न कुछ खाते रहते हैं। जिससे उनके पेट पर चर्बी जमा होने लगती है।

4. ज्यादा देर बैठकर काम करने की आदत :

आज के आधुनिक दौर में हर चीज को बैठे-बैठे किया जा सकता है, इससे हमारा जीवन तो आसान हो गया है लेकिन हमारी शारीरिक गतिविधियां बहुत ही कम हो गई है, जिसका परिणाम हम अपने शरीर पर चर्बी को एकत्रित होता देख सकते हैं। आप चाहे घर में हो या फिर ऑफिस में हो अधिक देर तक एक ही जगह बैठे रहना और काम करते रहना कहीं ना कहीं पेट और कमर पर जम रही अतिरिक्त चर्बी का कारण हो सकता है।

कंप्यूटर पर बैठकर अधिक देर काम करना भी शरीर में चर्बी बढ़ने का एक कारण हो सकता है। पेट की चर्बी बढ़ने के कारण में हमारे बैठने का तरीका भी बहुत असर डालता है। हमेशा कमर झुकाकर या पेट बाहर निकाल कर बैठना पेट और कमर पर चर्बी (फैट) के जमा होने का कारण बन सकता है।

5. अन्य बीमारियां :

कुछ ऐसी बीमारियां होती हैं जिनके कारण मोटापा बढ़ने लगता है यदि व्यक्ति इन बीमारियों की चपेट में आता है तो उसके शरीर में चर्बी का स्तर बढ़ने लगता है महिलाओं में इस प्रकार की समस्या ज्यादा होती है इन बीमारियों में मुख्यतः शुगर, ब्रेस्ट कैंसर या ह्रदय से जुड़ी बीमारियां होती हैं। थायराइड और उच्च रक्तचाप भी कभी-कभी पेट के आसपास चर्बी बढ़ने की आशंका बढ़ा सकता है।

Tips To Reduce Belly Fat
Tips To Reduce Belly Fat

कमर और पेट की चर्बी कम करने के तरीके –

कुछ लोगों का पेट इतना बड़ा हो जाता है कि वह चाह कर भी अपने पसंद के कपड़े नहीं पहन पाते और जब वह दूसरों के सामने उठते बैठते हैं तो उन्हें हीन भावना का शिकार होना पड़ता है कमर के और पेट के आसपास चर्बी एकत्रित हो जाने से उनका शरीर दूर से ही बेडोल नजर आने लगता है। ऐसे में जरूरी हो जाता है कि आप डेली कमर और पेट की चर्बी कम करने वाली एक्सरसाइज को करना शुरू कर दें।

यहां हमने कुछ ऐसे ही व्यायाम की जानकारी दी है जिन्हें आपको रोज करना चाहिए अगर आप इन्हें रोज करते हैं तो आपको पेट और कमर के हिस्से में जमा अतिरिक्त चर्बी (Tips To Reduce Belly Fat) को कम करने में जरूर लाभ होगा।

ये भी पढ़िए : केला है दुनिया का सबसे बड़ा डॉक्टर, केले के पास हर बीमारी का इलाज

  • दौड़ना
  • तैराकी यानि स्विमिंग
  • पैदल चलना
  • रस्सी कूदें
  • साइकिल चलाना
  • वेट ट्रेनिंग एक्सरसाइज
  • सेतुबंध योगासन
  • कपालभाती
  • अनुलोम विलोम प्राणायाम
  • नौकासन
  • बालासन

क्या खाएं और क्या न खाएं –

अगर खान-पान को संतुलित न रखा जाए हैं, तो फिर जितनी भी एक्सरसाइज व योग कर लें, पेट की चर्बी कम नहीं होगी। इसलिए, एक नजर डालते हैं कि वजन कम करने के लिए क्या खाना चाहिए और क्या नहीं :

सुबह उठते ही : सुबह उठने के बाद करीब दो गिलास गुनगुना पानी पिएं, ताकि पेट साफ हो जाए। शौच से निवृत होने के बाद एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू मिलाकर पिएं। जिन्हें शुगर है, वो नींबू पानी में चीनी न मिलाएं और जिन्हें उच्च रक्तचाप है, वो बिना नमक के पिएं। वैज्ञानिक शोध में साबित हुआ है कि नींबू पानी पीने से वजन कम होता है।

नाश्ते से पहले : नाश्ता करने से 15 मिनट पहले करीब 5-6 बादाम खाएं। इन बादाम को रात भर पानी में भिगोकर रखें और सुबह छिलके उतारकर खाएं। बादाम खाने से शरीर को जरूरी पोषक तत्व मिलते हैं। बादाम में फाइबर होता है, जो भूख को मिटाता है।

नाश्ता : कम फैट वाले दही के साथ एक चपाती खा सकते हैं। इसकी जगह दो ब्राउन ब्रेड भी ले सकते हैं, जिस पर बादाम वाला बटर लगा सकते हैं। इनकी जगह एक कटोरी ओट्स भी खा सकते हैं। साथ ही प्रोटीन युक्त आहार का सेवन कर सकते हैं।

Tips To Reduce Belly Fat

दो घंटे बाद : सुबह समय पर नाश्ता कर लेने के बाद 11 बजे के आसपास कोई भी फल खा सकते हैं या फिर विभिन्न फलों की सलाद बनाकर भी खा सकते हैं।

दोपहर का खाना : खाने से पहले सब्जियों की सलाद जरूर खाएं। सलाद खाने से शरीर को अतिरिक्त फाइबर मिलता है। इसके बाद एक या दो रोटी और साथ में मिक्स सब्जी ले सकते हैं। अगर नॉन वेज खाते हैं, तो मछली का एक टुकड़ा ले सकते हैं। कोशिश करें कि खाना एक बजे तक खा लें।

शाम को : डिनर से पहले शाम करीब पांच बजे एक फल या फिर एक गिलास बिना क्रीम वाला दूध पी सकते हैं। इनके अलावा, ग्रीन-टी या फिर नारियल पानी भी पी सकते हैं।

रात का खाना : डिनर हमेशा हल्का होना चाहिए और आठ बजे तक कर लेना चाहिए। डिनर में बिना बटर के वेज या फिर चिकन सूप ले सकते हैं। इसके बाद सब्जी के साथ एक या दो रोटी ले सकते हैं।

पेट की चर्बी कम करने के लिए करें ये उपाय –

1. नींबू पानी से करें दिन की शुरुआत :

पेट की चर्बी कम करने के लिए सुबह खाली पेट एक ग्लास गुनगुने पानी में आधा नींबू निचोड़कर पिएं। इसमें शहद मिलाकर पीने से अधिक फायदा होगा। ऐसा करने से मेटाबॉलिजम तेज होता है और फैट्स जल्दी बर्न होता है।

2. नाश्ता करना न भूलें :

दिनभर एनर्जी बनाये रखने के लिए हेल्दी नाश्ता जरूरी है। पेट की चर्बी को कम करने के लिए नाश्ता करना न भूलें। कुछ लोग मानते हैं कि नाश्ता नहीं करने से वजन कम होता है, जबकि ऐसा नहीं है। होता इससे उल्टा है, नाश्ता न करने से हमारी भूख बढ़ती है और हम लंच में ज्यादा खा लेते हैं, जिससे इसे पचाने में दिक्कत होती है और वजन बढ़ने की समस्या होने लगती है।

3. संतुलित मात्रा में खाएं :

दिनभर में केवन तीन बार खाने से हमारा पाचन तंत्र ठीक तरह से से काम नहीं कर पाता है। इसलिए, पेट और कमर की चर्बी कम करने के लिए पूरे दिन भर में 5 से 6 बार में थोड़ा-थोड़ा खाते रहें।

ये भी पढ़िए : लो ब्लड प्रेशर होने पर तुंरत करें ये 5 काम

4. खाने से पहले पानी पीना :

पानी पीना आपके चयापचय दर को बढ़ा सकता है, जिससे आप पेट को भरा हुआ महसूस कर सकते हैं यह कब्ज को दूर करने में मदद करता है, ये सभी पेट की चर्बी (Tips To Reduce Belly Fat) कम करने के उपाय आपको सपाट पेट के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं। प्रत्येक भोजन से पहले एक बड़ा गिलास पानी पीने की कोशिश करें। यह आपको अपना लक्ष्य प्राप्त करने में मदद कर सकता है।

5. अधिक पानी पिएं :

दिनभर में 8 से 10 गिलास पानी पीना सेहत के लिए जरूरी है। यदि आप पेट और कमर की चर्बी कम करना चाहते हैं तो 2-3 लीटर पानी पीना शुरू कर दें। दिनभर में तय समय पर थोड़ा-थोड़ा पानी पीते रहें। पानी पीने से ज्यादा खाने की आदत कम हो सकती है।

6. पूरी नींद लें :

पेट और कमर की चर्बी को कम करने के लिए पूरी नींद सोना भी जरूरी है। हर किसी को चाहे वह वजन कम करना चाहता हो या फिट रहना सभी को सात से आठ घंटे की नींद लेनी ही चाहिए। कम नींद के साथ ही ज्यादा सोना भी वजन बढ़ने का अहम कारण हैं। जब आप पूरी नींद सोते हैं, तो आपका पाचन तंत्र ठीक से काम करता है और भोजन सही से पचाता है।

Tips To Reduce Belly Fat
Tips To Reduce Belly Fat

7. योगासन :

  • कपालभाति: सांस को तेजी से नाक से बाहर फेंकें, जिससे पेट अंदर-बाहर जाएगा। 5-10 मिनट करें। उच्‍च रक्तचाप वाले धीरे-धीरे करें और कमर दर्द वाले कुर्सी पर बैठकर करें।
  • अग्निसार : खड़े होकर पैरों को थोड़ा खोलकर हाथों को जंघाओं पर रखें। सांस को बाहर रोक दें। फिर पेट की पंपिंग करें। यानी पेट अंदर खींचें, फिर छोड़ें। स्लिक डिस्क, उच्‍च रक्‍तचाप या पेट का ऑपरेशन कराया है तो इससे परहेज करें।
  • ऊर्ध्व हस्तोत्तानासन : खड़े होकर पैरों को थोड़ा खोलें। हाथों की उंगलियों को फंसाकर सिर के ऊपर उठा लें। सांस निकालें और कमर को बाईं तरफ झुका लें। इसी प्रकार दूसरी ओर भी करें।
  • द्रुत उत्तानपादासन : कमर के बल लेटकर हाथों को जंघाओं के नीचे जमीन पर रखें। दोनों पैरों को 90 डिग्री तक ऊपर उठाएं। इस प्रकार जमीन पर बिना टिकाए बार-बार पैरों को ऊपर-नीचे करते रहें। हालांकि, कमर दर्द वाले इसे न करें।
  • हृदय स्तंभासन : कमर के बल लेटकर हाथों को जंघाओं के ऊपर रखें। सांस भरकर पैरों को उठाएं। सिर और कमर को उठाएं। इस दौरान शरीर का भार कमर पर रहेगा।
  • दिवपाद साइकिलिंग: कमर के बल लेटे-लेटे ही दोनों पैरों को मिलाकर एक साथ साइकिलिंग की तरह घुमाएं। थकान होने तक लगातार घुमाते रहें। हाथों को कमर के नीचे रखें।
  • भुजंगासन: पेट के बल लेटकर दोनों हाथों को हिप्स के नीचे रखें। सांस भरते हुए आगे से सिर और छाती को ऊपर उठाकर पीछे की ओर मोड़ लें।
  • उज्जायी प्राणायाम : सीधे बैठकर सांस बाहर निकालें। अब सांस भरते हुए गले की मांसपेशियों को टाइट करें और सांस भरते जाएं। गले से घर्षण की आवाज करते जाएं। फिर नाक से सांस धीरे से बाहर निकाल दें।

ये भी पढ़िए : अगर पेट की चर्बी को है घटाना, तो ये 5 आसन आप जरुर अपनाना !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here